सेबी कर सकता है आईसीआईसीआई ऋण मामले की स्वतंत्र जांच

यह बैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंदा कोचर और उनके पति का एक ऋण मामले में हितों के टकराव से संबंद्ध विवादों के बीच हो रहा है.

सेबी कर सकता है आईसीआईसीआई ऋण मामले की स्वतंत्र जांच

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:

बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) आईसीआईसीआई बैंक के पिछले कुछ साल के वित्तीय खुलासों एवं बयानों की फोरेंसिक जांच कराने पर विचार कर रहा है. यह बैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंदा कोचर और उनके पति का एक ऋण मामले में हितों के टकराव से संबंद्ध विवादों के बीच हो रहा है. सेबी के शीर्ष अधिकारियों के अनुसार नियामकीय आधिकार क्षेत्र से बचने के लिए पूंजी बाजार विनियामक इस विषय में भारतीय रिजर्व बैंक से भी सलाह लेगा.

इस स्वतंत्र जांच में बैंक द्वारा पिछले कुछ सालों में किये गये खुलासों तथा वीडियोकॉन समूह को दिये गये विवादित ऋण के मामले में शेयर बाजारों द्वारा स्पष्टीकरण मांगे जाने पर दिये गये जवाबों पर ध्यान दिया जाएगा. आईसीआईसीआई बैंक ने वीडियोकान समूह को कुछ बैंकों के साथ मिल कर कर्ज दिया था. अधिकारियों ने कहा कि इस जांच में उन खुलासों को भी शामिल किया जाएगा जो बैंक ने 2009 में चंदा कोचर के पहली बार सीईओ एवं एमडी नियुक्त किये जाने के समय किया था.

Newsbeep

यदि जरूरत हुई तो सेबी कथित हितों के टकराव का परीक्षण करने के लिए चंदा कोचर सहित बैंक के शीर्ष अधिकारियों के कारोबारी सौदों से संबंधित जानकारियां भी मांग सकता है. रिजर्व बैंक ने आईसीआईसीआई बैंक और वीडियोकान के बीच रिण के सौदे के मामले में मिली शिकायतों की जांच 2016 में एक जाचंकी थी. उस समय उसे इस सौदे में किसी प्रकार के लेन देन का मामला नहीं दिखा था. (भाषा का इनपुट)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com