NDTV Khabar

फ्लिपकार्ट द्वारा छात्रों को नौकरी पर देरी से रखे जाने के मुद्दे पर IIM अहमदाबाद में हड़कंप

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
फ्लिपकार्ट द्वारा छात्रों को नौकरी पर देरी से रखे जाने के मुद्दे पर IIM अहमदाबाद में हड़कंप
अहमदाबाद:

दुनिया की सबसे वरीयता प्राप्त संस्थानों में से एक आईआईएम अहमदाबाद के छात्रों का प्लेसमेन्ट हाल ही में हुआ था। दुनिया की नामी गिरामी कंपनियों ने उन्हें अपने यहां नौकरी पर रखा था, आखिर इस संस्थान के छात्र मैनेजमेंट की दुनिया में अपना ही हुनर और नाम रखते हैं। लेकिन इस सप्ताह जो हुआ है उसने कइयों को हिलाकर रख दिया है। दरअसल करीब 18 छात्रों को ई-कॉमर्स कम्पनी फ्लिपकार्ट ने अपने यहां नौकरी पर रखा था और जून महीने से यह नौकरी शुरू होनी थी। लेकिन मई के तीसरे हफ्ते में ही इन छात्रों को फ्लिपकार्ट ने एक चिट्ठी लिखकर कहा कि उनकी नौकरी शुरू होने में वक्त लगेगा इसलिए उन्हें जून से नहीं लेकिन दिसम्बर से ज्वाइन करना है। इससे पूरे आईआईएम अहमदाबाद में हड़कंप मच गया।
 


कंपनी का नवीनीकरण
आईआईएम अहमदाबाद ने फ्लिपकार्ट को चिट्ठी लिखकर इस पर अपना विरोध जताया लेकिन कंपनी ने कहा कि वह कॉर्पोरेट रिस्ट्रक्चरिंग (नवीनीकरण) कर रहे हैं और फिलहाल नौकरी शुरु करवाने में असमर्थ हैं। संस्थान के अध्यापकों और छात्रों को लगा कि छह महीने तक नौकरी टालना और इसके लिए सिर्फ 1.50 लाख रुपयों की भरपाई बेहद कम है इसलिए उन्होंने इन छात्रों के साथ अपना समर्थन जताया है। संभावना है कि छात्र छह महीने इन्तजार नहीं करेंगे और दूसरी नौकरी ढूंढ लेंगे।
टिप्पणियां

संस्थान के इतिहास में पहली बार
आईआईएम अहमदाबाद के प्लेसमेन्ट सेल की अध्यक्ष प्रो. आशा कौल ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उनकी फ्लिपकार्ट से बातचीत फलदायी नहीं हो पायी है। उनका कहना है कि आईआईएम के छात्रों के पास दूसरी नौकरियां भी थीं जिसमें से उन्होंने फ्लिपकार्ट का विकल्प चुना था। छात्र बेहद तेजस्वी हैं इसलिए उन पर ज्यादा असर नहीं पडेगा लेकिन आईआईएम अहमदाबाद के इतिहास में पहली बार ऐसी घटना हुई है और ऐसा दोबारा न हो इसलिए प्लेसमेन्ट की नीतियों में कुछ बदलाव किये जा सकते हैं।


दूसरी ओर जानकारों का कहना है कि दूसरे संस्थानों के छात्रों के साथ तो यह होता रहता है लेकिन आईआईएम अहमदाबाद के छात्रों के साथ ऐसी घटना होना बेहद खतरनाक संकेत हैं। कहीं न कहीं ये देश की वर्तमान आर्थिक स्थिति को भी बताता है जहां व्यापार और कॉर्पोरेट में मंदी का माहौल साफ नजर आ रहा है। वरना फ्लिपकार्ट जैसी बड़ी कम्पनी देश के सर्वोच्च मैनेजमेंट संस्थान के छात्रों के साथ ऐसा नहीं करता।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement