NDTV Khabar

चर्चा में रहा इन 5 CEO का इस्तीफा, कोई गांव में पढ़ा तो कोई लंदन रिटर्न

आइए विशाल सिक्का सहित पांच ऐसे शख्स के बारे में जानें, जिनके सीईओ का पद छोड़ने पर विवाद हुआ और मीडिया में सुर्खियां बनी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
चर्चा में रहा इन 5 CEO का इस्तीफा, कोई गांव में पढ़ा तो कोई लंदन रिटर्न

इंफोसिस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) पद से इस्तीफा देने वाले विशाल सिक्का.

खास बातें

  1. इंफोसिस का CEO पद छोड़ने वाले विशाल सिक्का इन दिनों चर्चा में हैं
  2. सायरस मिस्त्री को टाटा के CEO पद से हटाया जाना विवादों में रहा
  3. आईटी कंपनी सत्यम के CEO रहे रामलिंगा राजू सजा काट रहे हैं
नई दिल्ली: किसी भी कंपनी में मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO), चेयरमैन या इसके समकक्ष वह पद होता है, जिसे संभालने वाला शख्स सबसे पावरफुल होता है. कंपनी की तरक्की का ताज उसी के सिर बंधता है तो नाकामी का ठीकरा भी उसी पर फूटता है. पिछले सप्ताह (18 अगस्त) को देश की सबसे बड़ी आईटी कंपनियों में से एक इंफोसिस के सीईओ और मैनेजिंग डायरेक्टर विशाल सिक्का ने अचानक पद से इस्तीफा दे दिया. इंफोसिस के निदेशक मंडल ने जैसे ही विशाल सिक्का के इस्तीफे को मंजूर किया उसके साथ मीडिया में यह खबर सुर्खियां बन गई. इस इस्तीफे के साथ ही मीडिया में सिक्का से जुड़े विवाद की खबरें भी सामने आई. आइए विशाल सिक्का सहित पांच ऐसे शख्स के बारे में जानें, जिनके सीईओ का पद छोड़ने पर विवाद हुआ और मीडिया में सुर्खियां बनी.

सायरस मिस्‍त्री (Cyrus Mistry): साल 2016 में टाटा संस के चेयरमैन साइरस मिस्त्री को कंपनी के बोर्ड ने पद से हटा दिया था. इसके बाद टाटा और सायरस मिस्त्री की ओर से लंबे समय तक आरोप-प्रत्यारोप का दौर चला. भारत नामी-गरामी कंपनी के चेयरमैन की इस तरह से विदाई सभी का ध्यान खींच रही थी. साइरस मिस्त्री जब टाटा के चेयरमैन पद से हटाए गए तो उस वक्त उनकी उम्र महज 43 साल थी. वे टाटा संस में सबसे बड़ी इंडिविजुअल पार्टनरशिप रखने वाले पल्लनजी मिस्त्री के बेटे हैं. लंदन के इंपीरियल कॉलेज और लंदन बिज़नेस स्कूल से पढ़ाई कर चुके साइरस कारों के शौकीन हैं. रतन टाटा से ठीक उलट मिस्त्री एक फैमिली पर्सन हैं और अपनी वाइफ रोहिका और दो बच्चों के साथ काफी समय गुजारते हैं.
 
cyrus mistry 650
सायरस मिस्‍त्री

रामलिंगा राजू (Ramalinga Raju): आईटी कंपनी सत्यम कंप्यूटर सर्विसेज के सीईओ पद से हटाए जाने के बाद रामलिंगा राजू खूब सुर्खियों में रहे. सत्‍यम घोटाला भारत का सबसे बड़ा आईटी फ्रॉड माना जाता है. रामलिंगा राजू इसके मुख्य आरोपी हैं. राजू ने कंपनी के अकाउंट्स में छेड़छाड़ कर अरबों की संपत्ति बना ली थी. इन दिनों वे सात साल काट रहे हैं. रामालिंगा राजू ने महज 20 कर्मचारियों के साथ 1987 में कंपनी की शुरुआत की थी. जब कंपनी घोटाले में फंसी तब 66 देशों में कंपनी का कारोबार फैला हुआ था और इसमें करीब 53 हजार कर्मचारी काम करते थे. रामालिंगा राजू 7 जनवरी, 2009 तक सत्यम कंप्यूटरर्स के चेयरमैन बने रहे. अरनेस्ट एंड यंग ने रामलिंगा राजू को 1999 में साल का इंटरप्रियन्योर चुना. 2002 में उन्हें एशिया बिजनेस लीडर का सम्मान भी मिला. 2008 में कॉरपोरेट गवर्नेंस के लिए गोल्डन पीकॉक अवार्ड से भी राजू को सम्मानित किया गया.
 
ramalinga raju
रामलिंगा राजू

राहुल यादव (Rahul Yadav) : यूं तो राहुल यादव कारोबार जगत में बहुत बड़ा नाम नहीं हैं, लेकिन उन्होंने जितनी कम उम्र में हाउसिंग डॉट कॉम की स्थापना कर उसके सीईओ बने वह सभी का ध्यान खींचता है. महज 26 साल की उम्र में राहुल यादव ने 1500 करोड़ रुपए की कंपनी खड़ी की. साल 2015 के मई महीने में अचानक सीईओ के पद से इस्तीफा दे दिया था. अलवर के मध्यवर्गीय परिवार में जन्में राहुल यादव 10वीं क्लास में 30 लड़कों के बैच में 20 वें जगह पर आए थे, इसपर चाचा ने उनको ताना दिया. इसके बाद राहुल यादव ने इतना मन लगाकर पढ़ाई की कि ग्यारवीं की परीक्षा में पूरे राजस्थान में फिजिक्स, कैमिस्ट्री और मैथ्स में टॉप कर गए. राहुल ने आईआईटी बंबई में प्रवेश लिया. फाइनल ईयर में उन्होंने आईआईटी छोड़ दी और अपने दोस्त अद्वितीय शर्मा के साथ मिलकर हाउसिंग डॉट कॉम की स्थापना कर ली.
 
rahul yadav
राहुल यादव.

संजय कुमार (Sanjay Kumar): कंप्‍यूटर एसोसिएट्स कंपनी के सीईओ रहे संजय कुमार के पद से हटने के बाद भी काफी सुर्खियां बनी थी, हालांकि वे विवादों की वजह से चर्चा में रहे. इनपर धोखाधड़ी का आरोप लगा था. 10 साल तक सीईओ के पद पर कार्यरत संजय 2004 में सिक्‍योरिटी फ्रॉड में फंस गए. जांच में उन्‍हें दोषी करार दिया गया. कुमार को फेडरल जेल में रखा गया और जनवरी 2017 में रिहाई हुई.

टिप्पणियां
विशाल सिक्का (vishal sikka): मध्यप्रदेश के शाजापुर में  1 जून 1967 को जन्मे विशाल सिक्का की परवरिश गुजरात के बडोदरा में हुई. जब वह 6 साल के थे तभी उनका परिवार को गुजरात के वडोदरा आ गया था. सिक्का ने अपनी शुरुआती पढ़ाई बड़ौदा और राजकोट से की. 

VIDEO: Infosys के सीईओ विशाल सिक्का ने दिया इस्तीफा
विशाल सिक्का ने 1 अगस्त 2014 को इंफोसिस के नए सीईओ और एमडी का पद संभाला था. ऐसा पहली बार था, जब इंफोसिस में कंपनी के बाहर से आए किसी शख्स ने सीईओ की कुर्सी संभाली थी. विशाल सिक्का क्लाइंट से मिलने के लिए प्राइवेट प्लेन का इस्तेमाल करते थे, जिसकी आलोचना इंफोसिस के संस्थापक एन. आर. नारायणमूर्ति भी कर चुके हैं. विशाल के सीईओ पद छोड़ने के बाद कई विवाद इन दिनों मीडिया में चल रहे हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement