NDTV Khabar

आयकर विभाग ने 1,150 करोड़ रुपये बकाया कर वाले 18 डिफाल्टरों की सूची जारी की

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आयकर विभाग ने 1,150 करोड़ रुपये बकाया कर वाले 18 डिफाल्टरों की सूची जारी की

प्रतीकात्मक चित्र

मुंबई:

आयकर विभाग ने कर नहीं चुकाने वालों के नाम सार्वजनिक करने के अपने अभियान को आगे बढ़ाते हुए आज 18 डिफाल्टर की तीसरी सूची सार्वजनिक की है। इनमें सोना तथा हीरा कारोबारियों सहित कई अन्य नाम हैं जिन पर सरकार का कुल 1,150 करोड़ रुपये कर बकाया हैं।

स्वर्गीय उदय आचार्य, उनके उत्तराधिकारी अमूल तथा भावना आचार्य पर 779.04 करोड़ रुपए बकाया
कर विभाग द्वारा तैयार इस सूची को वित्त मंत्रालय ने राष्ट्रीय स्तर के अखबारों को जारी किया है जिसमें चूककर्ता व्यक्तियों या इकाइयों के नाम, उनका आखिरी ज्ञात पता, पैन नंबर, बकाया राशि, आय का आखिरी स्रोत और आकलन वर्ष का जिक्र है जिनका उन पर कर बकाया है। मुंबई के स्वर्गीय उदय एम आचार्य और उनके कानूनी उत्तराधिकारी अमूल आचार्य तथा भावना आचार्य पर 779.04 करोड़ रुपए का आयकर कंपनी कर बकाया हैं।

जेवरात, हीरा और सोना कारोबार से जुड़े हैं बकाएदार
इस साल कर अधिकारियों द्वारा ‘नाम जाहिर कर शर्मिंदा करने’ की नीति अपनाई जिसके तहत आज कई चूककर्ताओं के नाम का खुलासा किया गया है और इनमें से कई जेवरात, हीरा और सोना कारोबार से जुड़े हैं। यह इस तरह की तीसरी सूची है जो जारी की गई है।


जनता से मांगा गया है सहयोग
एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘इन 18 डिफाल्टर ने व्यक्तिगत आयकर और कॉर्पोरेट कर खंड में 1,152.52 करोड़ रुपये का कर भुगतान नहीं किया है यह आयकर अधिकारियों द्वारा सार्वजनिक की गई तीसरी सूची है।’’ कर विभाग ने नोटिस में इनसे तुरंत बकाया कर का भुगतान करने के लिए कहा है। साथ ही जनता से कहा है कि यदि उन्हें इन लोगों के बारे में कोई सूचना है तो साझा करें।

अहमदाबाद की कंपनियां को बकाया
इस सूची में अहमदाबाद के जग हीत एक्पोर्टर्स प्राइवेट लिमिटेड (18.45 करोड़ रुपये), जशुभाई ज्वेलर्स (32.13 करोड़ रुपये), कल्याण ज्वेल्स प्राइवेट लिमिटेड (16.77 करोड़ रुपये), लिवरपूल रिटेल इंडिया लिमिटेड (32.16 करोड़ रुपये), धरणेंद्र ओवरसीज लिमिटेड (19.87 करोड़ रुपये) और प्रफुल्ल एम अखनी (29.11 करोड़ रुपये) भी शामिल हैं।

हैदराबाद और भोपाल की कंपनियों का बकाया
नोटिस में कहा गया कि हैदराबाद के नेक्सॉट इन्फोटेक लिमिटेड पर 68.21 करोड़ रुपये जबकि भोपाल की ग्रेट मेटल्स प्राडक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड पर 13.01 करोड़ रुपये बकाया है। सार्वजनिक नोटिस में कहा गया कि इनमें से कई करदाताओं का या तो सही पता नहीं है या फिर इनके पास वसूली के लिए पर्याप्त या कुछ भी संपत्ति नहीं है।

टिप्पणियां

विभाग ने इस साल कहा, दो ऐसे ही नोटिस जारी किए थे जिनमें 49 ऐसे चूककर्ताओं के नाम थे जिन पर 2,000 करोड़ रुपये से अधिक की कर देनदारी है।

सूरत और दिल्ली के कारोबारियों का बकाया
सूची में शामिल अन्य डिफाल्टरों में सूरत के साक्सी एक्सपोर्ट्स 26.76 करोड़ रुपये, करोल बाग, दिल्ली की श्रीमती बिमला गुप्ता 13.96 करोड़ रुपये, भोपाल स्थित गरीमा मशीनरी प्रा. लि. 6.98 करोड़, मुंबई की धीरेन अनंट्राई मोदी 10.33 करोड़ रुपये, हेमंग सी. शाह 22.51 करोड़ रुपये, मो. हाजी उर्फ यूसुफ मोटोरवाला 22.34 करोड़ रुपये, चंडीगढ स्थित वीनस रेमेडीज प्रा. लि. पर 15.25 करोड़ रुपये का कर बकाया है। इन डिफाल्टरों का यह कर 1989-90 से 2013-14 के वर्षों का है।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement