NDTV Khabar

ITR फाइल करने की अंतिम तारीख आज, आयकर विभाग ने किया साफ, नहीं बढ़ेगी समयसीमा

आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए 31 जुलाई आखिरी दिन है और इसकी समयसीमा आगे बढ़ाने का कोई प्रस्ताव नहीं है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ITR फाइल करने की अंतिम तारीख आज, आयकर विभाग ने किया साफ, नहीं बढ़ेगी समयसीमा

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

वित्त वर्ष 2016-17 के लिए आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए 31 जुलाई यानी सोमवार आखिरी दिन है और इसकी समयसीमा आगे बढ़ाने का कोई प्रस्ताव नहीं है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'आयकर रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि 31 जुलाई है. इसे बढ़ाने का प्रस्ताव नहीं है. विभाग के पास इलेक्ट्रॉनिक रूप में पहले ही दो करोड़ से अधिक रिटर्न दाखिल किए जा चुके हैं. विभाग ने करदाताओं से समय पर रिटर्न दाखिल करने की अपील की है.'

ई-फाइलिंग की वेबसाइट पर कुछ समस्याएं आने के बारे में अधिकारी ने कहा कि विभाग की वेबसाइट पर कोई बड़ी गड़बड़ी नहीं देखी गई, सिर्फ कुछ समय के लिए इस पर रखरखाव के चलते व्यवधान देखा गया था.
यह भी पढ़ें
इनकम टैक्स समय से भर दिया लेकिन ITR फाइलिंग में कर दीं ये 5 गलतियां, तो पड़ सकते हैं लेने के देने

वहीं, आयकर विभाग इनकम टैक्स मामलों की जांच के लिए केंद्रीयकृत प्रकोष्ठ स्थापित करने की तैयारी कर रहा है. इसका मकसद करदाता और टैक्स अधिकारी के आमना-सामना की जरूरत कम करना है. इससे भ्रष्टाचार पर अंकुश में भी मदद मिलेगी.
यह भी पढ़ें
इनकम टैक्स ज्यादा कट गया? आईटीआर फाइलिंग के वक्त चेक करें स्टेटस, लें रिफंड, यह है प्रक्रिया


यह प्रस्तावित प्रकोष्ठ केंद्रीय प्रसंस्करण केंद्र (सीपीसी) की तर्ज पर होगा. सीपीसी बेंगलुरु में है और यह आयकर रिटर्न की प्रोसेसिंग करता है. राजस्व विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि विभाग करदाता तथा अधिकारियों के बीच आमने-सामने के संपर्क को कम करना चाहता है. इसी के मद्देनजर विभाग की सीपीसी स्थापित करने की योजना है.

टिप्पणियां

VIDEO : बैंक खाते के लिए आधार जरूरी
जब किसी मामले को आयकर कानून की धारा 143 (2) के तहत जांच के लिए चुना जाता है, तो आकलन अधिकारी करदाता से कुछ अतिरिक्त दस्तावेज देने को कहते हैं जिससे यह पता लगाया जा सके कि कोई आय ऐसी तो नहीं है, जो आकलन में नहीं आ पाई है. अधिकारी ने बताया कि सीपीसी से भेजे गए ई-मेल पर आकलन अधिकारी का नाम नहीं होगा. अभी तक कर जांच वाले नोटिस पर टैक्स अधिकारी का नाम और डिजिटल हस्ताक्षर होते हैं.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement