NDTV Khabar

'ब्रिटेन EU से बाहर गया तो दुनिया भर में मचेगी उथल पुथल, भारत के पास होनी चाहिए आपात योजना'

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
'ब्रिटेन EU से बाहर गया तो दुनिया भर में मचेगी उथल पुथल, भारत के पास होनी चाहिए आपात योजना'

ब्रिटेन में यूरोपीय संघ में बने रहने पर गुरुवार को जनमत संग्रह होना है

खास बातें

  1. जनमत संग्रह के नतीजों का वैश्विक बाजारों पर पड़ेगा असर
  2. भारतीय उद्योग मंडल एसोचैम ने बताई आपात योजना की जरूरत
  3. एसोचैम ने कहा कि उसे RBI गवर्नर राजन पर पूरा विश्वास है
नई दिल्ली:

ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से बाहर होने के फैसले पर गुरुवार को जनमत संग्रह होना है और इसको लेकर बनी हुई अनिश्चित स्थिति से निपटने के लिए सरकार को एक आपात योजना तैयार करके रखनी चाहिए, क्योंकि इस जनमत संग्रह के परिणाम से वैश्विक वित्तीय बाजारों में उथल-पुथल मचना लाजिमी है। यह बात उद्योग मंडल एसोचैम ने कही।

एसोचैम के बयान में कहा गया है कि लंदन चूंकि वैश्विक अर्थव्यवस्था एक प्रमुख केंद्र है, इसलिए पूरी दुनिया में अनिश्चितता का माहौल बन गया है। ऐसे में भारत में भी भारी उथल-पुथल देखा जा सकता है या वैश्विक रुझान के अनुरूप बड़े पैमाने पर पूंजी बाहर जा सकती है।

बयान में कहा गया है, 'ब्रेक्सिट जनमत संग्रह ऐसे वक्त हो रहा है, जब विदेशी मुद्रा अप्रवासी (एफसीएनआर) जमा खाते से निकासी के कारण 20 अरब डॉलर राशि देश से बाहर चले जाने को लेकर आशंका व्याप्त है, हालांकि इस वक्त चालू खाता की स्थिति सुविधाजनक है।'

टिप्पणियां

एसोचैम ने कहा, 'ब्रिटेन और यूरोपीय बाजारों में अनिश्चिता की स्थिति में मध्यम और लंबी अवधि का कोष भारतीय बाजारों का रुख कर सकता है, लेकिन तत्काल अवधि में कुछ भी हो सकता है और एक विश्वसनीय अर्थव्यवस्था के तौर पर हमें इसके लिए तैयार रहना होगा।'


उद्योग मंडल ने कहा कि उसे रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन पर पूर्ण विश्वास है कि इस तेजी से बदलते वैश्विक परिदृश्य से वह निपट लेंगे। जनमत संग्रह के परिणामों में ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से अलग होने या उसमें बने रहने की आशंका के बीच उद्योग मंडल का मानना है कि इससे वित्तीय बाजारों में उथल-पुथल हो सकती है।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement