'अंधों में काना राजा' बयान : राजन की बात को जेटली ने यह कहकर खारिज़ किया

'अंधों में काना राजा' बयान : राजन की बात को जेटली ने यह कहकर खारिज़ किया

अरुण जेटली (फाइल फोटो)

न्यूयॉर्क:

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 'भारतीय अर्थव्यवस्था को अंधों में काना राजा' बताने वाले रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन के बयान को एक प्रकार से खारिज़ करते हुए कहा कि शेष दुनिया की तुलना में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि कहीं बहुत तेज है, वास्तव में, सबसे तेज है। इससे पहले केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण भी राजन के बयान पर कह चुकी हैं कि कुछ अन्य अच्छे शब्दों का इस्तेमाल किया जा सकता था।

यहां क्लिक करके पढ़ें निर्मला सीतारमण ने क्या कहा था...

जेटली ने कहा कि 7.5 प्रतिशत की वृद्धि दर पर कोई और देश जश्न मना रहा होता लेकिन यह भारत की वृद्धि की कहानी का सम्मान ही है कि हम इस पर भी बेचैन हैं, क्योंकि हम जानते हैं कि हमारी क्षमता इससे कहीं अधिक की है। जेटली से एक न्यूज चैनल ने राजन के उस बयान के बारे में पूछा था जिसमें गवर्नर ने पिछले सप्ताह कहा था कि 7.5 प्रतिशत की वृद्धि के साथ भारतीय अर्थव्यवस्था की स्थिति अंधों में काना राजा जैसी है।

यहां क्लिक करके पढ़ें आखिर राजन ने कहा क्या था...

जेटली ने कहा, ‘बाकी दुनिया की तुलना में हमारी वृद्धि बहुत तेज है, वास्तव में सबसे तेज है। हमारी क्षमता के हिसाब से हम और अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं।’ कुछ और बेहतर करने की क्षमता के बारे में जेटली ने कहा, ‘मैं कुछ कारक मसलन बेहतर मॉनसून और सुधारों को देख रहा हूं। यदि ये हमारे लिए अनुकूल रहते हैं, तो हम कहीं बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं।’ वित्त मंत्री ने कहा, ‘यह मानते हुए कि मानसून कुछ हल्का या अच्छा रहेगा, मुझे पूरा विश्वास है कि हम अपनी वृद्धि दर में सुधार सकेंगे। मुझे इसमें कोई मुश्किल नहीं दिखती कि हम मौजूदा वृद्धि दर को कायम रख सकें। खासकर देश में आर्थिक गतिविधियों पर जिस प्रकार का जोर दिया जा रहा है, सार्वजनिक निवेश, प्रत्यक्ष विदेशी निवेश और बढ़ती मांग के मद्देनजर यह तो कहा ही जा सकता है।’

 
(रघुराम राजन)
 
जेटली ने कहा- सुधार की रफ्तार बनाए रखने की जरूरत है
सुधारों के बारे में जेटली ने कहा कि इसकी रफ्तार बनाये रखना जरूरत है। उन्होंने उम्मीद जताई कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) विधेयक पारित हो जाएगा क्यों कि राज्यसभा में आंकड़े बदल रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे में दिवाला कानून, जीएसटी जैसे विधेयकों को हम पारित करा पाएंगे। इससे हमारी निवेशकों का भरोसा कायम करने की क्षमता भी बढ़ेगी। वित्त मंत्री ने इस सवाल का जवाब नहीं दिया कि सरकार राजन का कार्यकाल बढ़ाने पर विचार कर रही है। उन्होंने इतना अवश्य कहा कि रिजर्व बैंक ने काफी अच्छा काम किया है। राजन का कार्यकाल सितंबर में समाप्त हो रहा है।

बोले जेटली- व्यक्तिगत मामलों पर कुछ नहीं कहेंगे
जेटली ने कहा कि पिछले डेढ़ साल में रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में डेढ़ प्रतिशत की कटौती की है। यदि मॉनसून अच्छा रहता है और महंगाई नियंत्रण में रहती है, तो ब्याज दरें और घटेंगी। वोडाफोन से संबंधित पिछली तारीख के कर मामले पर जेटली ने कहा कि वह व्यक्तिगत मामलों पर कुछ नहीं कहेंगे। हालांकि, उन्होंने जोर दिया कि सरकार इस तरह के कर नहीं लगाने को प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा, ‘सरकार ने कहा है कि पिछली तारीख से कर नहीं लगेगा। हम अपने शब्दों पर टिके हैं। ऐसे लोग जिनकी देश के बाहर गैरकानूनी संपत्ति है उनके लिए हमने अनुपालन खिड़की खोली थी। अधिक अदा करो और आराम की नींद लो। घरेलू स्तर पर इस तरह की संपत्तियों के लिए भी बजट में ऐसी ही योजना की घोषणा की गई है।’

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com