Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

जेट एयरवेज के पायलटों ने विमान नहीं उड़ाने का फैसला 15 अप्रैल तक टाला

गिल्ड के अघ्यक्ष करण चोपड़ा ने संवाददाताओं को बताया कि सदस्यों ने दिल्ली और मुंबई में हुई एक खुली बैठक में यह निर्णय लिया. उन्होंने कहा कि यह बैठक करीब चार घंटे चली.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जेट एयरवेज के पायलटों ने विमान नहीं उड़ाने का फैसला 15 अप्रैल तक टाला

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

नई दिल्‍ली:

वित्तीय संकट से उबरने की कोशिश कर रही विमानन कंपनी जेट एयरवेज की मुसीबतें रविवार को कुछ कम हुईं. कंपनी के पायलटों के संगठन नेशनल एविएटर्स गिल्ड ने विमान नहीं उड़ाने के अपने आह्वान को 15 अप्रैल तक टाल दिया. गिल्ड के अघ्यक्ष करण चोपड़ा ने संवाददाताओं को बताया कि सदस्यों ने दिल्ली और मुंबई में हुई एक खुली बैठक में यह निर्णय लिया. उन्होंने कहा कि यह बैठक करीब चार घंटे चली. गिल्ड कंपनी के कुल 1,600 पायलटों में से करीब 1,100 पायलटों के प्रतिनिधित्व का दावा करता है. गिल्ड ने कहा था कि पायलटों के बकाये वेतन का भुगतान नहीं होने तथा 31 मार्च तक वित्तपोषण को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं होने पर सदस्य पायलट एक अप्रैल से उड़ान नहीं भरेंगे.

चोपड़ा ने कहा, ‘‘प्रबंधन ने हमारा वेतन (दिसंबर का) भुगतान कर सकारात्मक संकेत दिया है और हमने सोचा कि उन्हें मामला सुलझाने, अंतरिम बोर्ड गठित करने तथा हमारी आपत्तियों को दूर करने के लिये कुछ सप्ताह का समय देना चाहिये. इसी कारण मुंबई और दिल्ली में पायलटों द्वारा एक अप्रैल से उड़ान से दूर रहने के निर्णय को सामूहिक तौर पर 15 अप्रैल तक टालने की सहमति बनी ताकि दो सप्ताह में कुछ सकारात्मक सामने आ सके.''


जेट एयरवेज के चेरयमैन नरेश गोयल और उनकी पत्‍नी ने कंपनी के निदेशक मंडल से दिया इस्‍तीफा

गिल्ड ने जेट एयरवेज को बनाये रखने के लिये सरकार से 21 मार्च को दखल देने की अपील की थी. इसके बाद भारतीय स्टेट बैंक ने कहा था कि दो सप्ताह तक परिचालन बहाल रखने के लिये बैंक 1,500 करोड़ रुपये लगाएंगे. जेट एयरवेज के बोर्ड ने पिछले सोमवार को भारतीय स्टेट बैंक की अगुवाई वाले बैंकों के समूह की समाधान योजना को मंजूरी दे दी थी.

योजना के अनुसार जेट एयरवेज का नियंत्रण कर्ज देने वाले बैंकों के पास चला गया और बैंकों ने कंपनी में 1,500 करोड़ रुपये लगाये हैं. जेट एयरवेज पिछले साल अगस्त से पायलटों समेत इंजीनियरों और प्रबंधन के वरिष्ठ कार्यकारियों का वेतन भुगतान करने में असफल रही है. इस बीच एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कर्ज देने वाले बैंकों का समूह भारतीय स्टेट बैंक के पूर्व प्रमुख ए.के. पुरवार को अंतरिम प्रबंधन समिति का चेयरमैन बनाने पर विचार कर रही है.

टिप्पणियां

अधिकारी के अनुसार पुरवार को शीघ्र ही नियुक्त किये जाने की उम्मीद है. पुरवार 2002 से 2006 तक भारतीय स्टेट बैंक के चेयरमैन रहे हैं. इसके साथ ही अधिकारी ने बताया कि जेट एयरवेज के ऋणदाता बैंक और संस्थान एयरलाइन के लिये नया निवेशक ढूंढने के वास्ते एसबीआई कैपिटल को सलाहकार नियुक्त करने की प्रक्रिया में हैं. उल्लेखनीय है कि स्टेट बैंक की अगुवाई में बैंकों के समूह ने 25 मार्च को वित्तीय संकट से जूझ रही जेट एयरवेज के लिये समाधान योजना को मंजूरी दी थी. इसके तहत एयरलाइन में 1,500 करोड़ रुपये की त्वरित सहायता योजना को मंजूरी दी थी.

VIDEO: जेट एयरवेज के चेयरमैन का इस्तीफा



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... मलाइका अरोड़ा ने पहना ऐसा गाउन, अपशब्द कहने लगीं फराह खान

Advertisement