Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

आर्थिक रूप से व्यावहारिक होने के लिए बुलेट ट्रेन को रोजाना 100 फेरे लगाने होंगे : अध्ययन

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आर्थिक रूप से व्यावहारिक होने के लिए बुलेट ट्रेन को रोजाना 100 फेरे लगाने होंगे : अध्ययन

प्रतीकात्मक चित्र

अहमदाबाद:

भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) अहमदाबाद की एक रिपोर्ट के अनुसार मुंबई और अहमदाबाद के बीच प्रस्तावित बुलेट ट्रेन में रोजाना अगर 88,000-118,000 मुसाफिर सफर करें या प्रतिदिन ट्रेन के 100 फेरों का परिचालन किया जाए, तभी यह परियोजना आर्थिक दृष्टिकोण से व्यवहारिक होगी।

'डेडिकेटेड हाई स्पीड रेलवे (एचएसआर) नेटवर्क इन इंडिया : इशूज इन डेवलपमेंट' शीषर्क वाली रिपोर्ट में कहा गया है कि रेलवे को कर्ज और ब्याज समय पर चुकाने के लिए परिचालन शुरू होने के 15 वर्ष बाद तक 300 किलोमीटर की यात्रा के लिए टिकट का मूल्य 1500 रुपया निर्धारित करना होगा और प्रतिदिन 88,000-1,18,000 यात्रियों को ढोना होगा।

जापान से रियायती कर्ज
जापान ने परियोजना लागत के लगभग 80 प्रतिशत हिस्से के रूप में 97,636 करोड़ रुपये के रियायती ऋण की पेशकश की है। जापान के प्रस्ताव के अनुसार ऋण को 50 वर्ष के भीतर चुकाना होगा और परिचालन शुरू होने के 16वें वर्ष से 0.1 प्रतिशत की दर से ब्याज देना होगा। रिपोर्ट के लेखकों के अनुसार शेष 20 प्रतिशत ऋण के लिए आठ प्रतिशत की औसत ब्याज दर होगी। उनके अनुसार जापान ने 15 वर्ष का ऋण अवकाश दिया है, इसलिए रेलवे के लिए राजस्व की चिंता 16वें वर्ष से शुरू होगी। यह ट्रेन कुल 534 किलोमीटर की दूरी तय करेगी।

कर्ज भुगतान के विकल्प
यह रिपोर्ट संस्थान के पब्लिक सिस्टम समूह के प्रोफेसर जी रघुराम और प्रशांत उदयकुमार ने संयुक्त रूप से तैयार की है। रघुराम ने कहा, 'अगर रेलवे 100 रुपये का राजस्व अर्जित करती है तो 20 या 40 रुपये रखरखाव में खर्च होंगे एवं इसके बाद बची हुई राशि का उपयोग ऋण और ब्याज के नकद भुगतान के लिए किया जायेगा। ऐसे में परिचालन खर्च के साथ ऋण का भुगतान दो सूरत-ए-हाल में संभव है। हम लोग इस पर विचार कर रहे हैं कि एक यात्री औसतन 300 किलोमीटर का सफर करेगा। दोनों स्थितियों में हम लोगों को 88,000-1,18,000 यात्रियों की जरूरत होगी।'


टिप्पणियां

उन्होंने कहा, 'अमूमन एक ट्रेन 800 यात्रियों को ले जाती है, तो 88,000 यात्रियों को प्रतिदिन ढोने के लिए आपको कुल 100 फेरों की जरूरत होगी या एक तरफ से 50 फेरों की। इसलिए हम लोगों को प्रत्येक दिशा में एक घंटा में तीन रेलगाड़ियां चलानी होंगी।' इस रिपोर्ट के अनुसार एचएसआर के कई सकारात्मक लाभ होंगे, जो भारत के समग्र विकास में मददगार साबित होगा। इसमें कहा गया है कि नेटवर्क के विकास के लिहाज से इसे जयपुर और दिल्ली तक बढ़ाया जा सकता है।

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... सड़क पर घूमता दिखा सिर कटा शख्स, देखकर लोगों ने दिया ऐसा रिएक्शन, देखें Shocking Video

Advertisement