NDTV Khabar

हम अगली दो तिमाहियों में उच्च वृद्धि हासिल करेंगे, देश आर्थिक नरमी से बाहर आ गया है : नीति आयोग उपाध्यक्ष राजीव कुमार

कुमार ने यह भी स्वीकार किया कि नोटबंदी और माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के कारण समस्या हुई है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हम अगली दो तिमाहियों में उच्च वृद्धि हासिल करेंगे, देश आर्थिक नरमी से बाहर आ गया है : नीति आयोग उपाध्यक्ष राजीव कुमार

नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: देश की अर्थव्यवस्था पर नोटबंदी और जीएसटी के कारण आई समस्या को स्वीकार करते हुए नीति आयोग उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा कि हम अगली दो तिमाहियों में उच्च वृद्धि हासिल करेंगे. नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने मंगलवार कहा कि देश संप्रग(संयुक्त प्रगतिशाील गठबंधन) -दो के अंतिम दो वर्ष के दौरान शुरू हुई आर्थिक नरमी की स्थिति से बाहर आ गया है और अगली दो तिमाही में आर्थिक वृद्धि सुधरेगी. कुमार ने यह भी स्वीकार किया कि नोटबंदी और माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के कारण समस्या हुई है लेकिन लोगों ने अब नई कर व्यवस्था को अपना लिया है. आल इंडिया मैनेजमेंट एसोसएिशन (एआईएमए) के हीरक जयंती कार्यक्रम में उन्होंने कहा, ‘आर्थिक वृद्धि में नरमी का चक्र संप्रग दो के अंतिम दो साल में शुरू हुआ और मेरे हिसाब से आर्थिक वृद्धि के नीचे जाने का चक्र अब खत्म हो गया है और यह उससे बाहर आ गया है.’

कुमार ने कहा, ‘हम अगली दो तिमाहियों में उच्च वृद्धि हासिल करेंगे और मुझे लगता है कि आर्थिक वृद्धि के लिहाज से वर्ष 2018-19 मौजूदा वित्त वर्ष के मुकाबले बेहतर होगा.’ उल्लेखनीय है कि देश की आर्थिक वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 5.7 प्रतिशत रही जो तीन साल का न्यूनतम स्तर है.

यह भी पढ़ें : देश में 'आर्थिक सुस्ती' के बीच वित्तमंत्री अरुण जेटली करेंगे उच्चस्तरीय बैठक

टिप्पणियां
नीति आयोग के उपाध्यक्ष ने यह भी कहा कि अगर आप विनिर्माण और सेवा पीएमआई (परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स) देखें, जुलाई में यह न्यूनतम स्तर पर गया और अब यह ऊपर आने लगा है.उन्होंने कहा कि ऐतिहासिक रूप से जिन देशें ने जीएसटी अपनाया, वहां आर्थिक वृद्धि में कुछ गिरावट देखी गयी. उन्होंने कहा कि इसका कारण व्यवस्था को नयी चीजों को को अपनाने में थोड़ी दिक्क्तों का सामना करना पड़ता है.
 
नरेंद्र मोदी सरकार के कामकाज का बचाव करते हुए कुमार ने कहा कि देश में पिछले तीन साल में 250 अरब डालर मूल्य का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) आया. उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय उद्योग को राष्ट्रीय हितों को पूरा करना चाहिए न कि समाज के केवल एक तबके को.
 
यह भी पढ़ें : राजीव कुमार ने संभाला नीति आयोग के उपाध्यक्ष का पदभार

कुमार ने जोर देकर कहा कि सरकार तथा उद्योग के बीच भरोसा सृजित करने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि उद्योग को विश्व की आधुनिक प्रौद्योगिकी को अपनाना चाहिए, घरेलू उपभोक्ताओं को ध्यान में रखकर काम करने के दिन अब बीते दिनों की बात है. इससे पहले, इसी कार्यक्रम में नीति आयोग के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अमिताभ कांत ने कहा कि स्त्री-पुरूष समानता के बिना देश वृद्धि नहीं कर सकता क्योंकि महिलाओं से जीडीपी का केवल 24 प्रतिशत हिस्सा आता है.
 
कांत ने यह भी कहा कि सरकार की नीतियों में स्थिरता और उसका भरोसेमंद होना महत्वपूर्ण है.(इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement