चीनी उत्पादों पर पाबंदी के बावजूद रफ्तार नहीं पकड़ सका भारतीय पटाखा बाजार : एसोचैम

चीनी उत्पादों पर पाबंदी के बावजूद रफ्तार नहीं पकड़ सका भारतीय पटाखा बाजार : एसोचैम

प्रतीकात्मक चित्र

लखनऊ:

चीन में बने पटाखों के आयात और बिक्री पर रोक के बावजूद देशी पटाखों का बाजार जोर नहीं पकड़ सका है. पर्यावरण के प्रति विभिन्न संगठनों के जनजागरण अभियानों तथा कई अन्य कारणों से इस बार पटाखा बाजार में कोई उत्साह नहीं है. उद्योग मण्डल 'एसोचैम' के एक ताजा सर्वेक्षण में यह दावा किया गया है.

सर्वे के मुताबिक पटाखा विक्रेताओं का कहना है कि सिर्फ चीनी पटाखों की बाजार में आमद ने ही देशी पटाखा व्यवसाय को नुकसान नहीं पहुंचाया है, बल्कि पटाखों से होने वाले प्रदूषण के विरुद्ध विभिन्न संगठनों द्वारा जनजागरण अभियान चलाए जाने, अपनी गाढ़ी कमाई को पटाखों के रूप में जलाने के बजाय बचाने की बढ़ती प्रवृत्ति तथा समय बचाने की इच्छा समेत कई अन्य कारणों ने भी देशी पटाखा व्यवसाय को प्रभावित किया है.

एसोचैम के राष्ट्रीय महासचिव डी.एस. रावत ने कहा कि घरेलू पटाखा उद्योग को मजबूत करने के लिए चीनी पटाखों पर प्रतिबंध लगाया जाना एक स्वागत योग्य कदम है, लेकिन पटाखे जलाने से पर्यावरण को होने वाले नुकसान को लेकर बढ़ती आलोचना और प्रचार की वजह से पूरे देश में पटाखा उद्योग का विकास अवरुद्ध हुआ है.

उन्होंने बताया कि हाल के वर्षों में चीन-निर्मित पटाखों की बिक्री बढ़ने और पटाखे जलाने के खिलाफ जारी सघन अभियानों की वजह से पटाखा निर्माण हब माने जाने वाले शिवकाशी में पटाखे बनाने की सैकड़ों इकाइयां बंद हो चुकी हैं.

एसोचैम ने पिछले 25 दिन के दौरान लखनऊ, भोपाल, चेन्नई, देहरादून, दिल्ली, हैदराबाद, जयपुर, मुंबई, अहमदाबाद तथा बेंगलुरु समेत 10 शहरों के 250 थोक एवं खुदरा पटाखा विक्रेताओं से बात करके यह जानने की कोशिश की कि देश में चीनी पटाखों पर प्रतिबंध के बाद उनका क्या रुख और नजरिया है. ज्यादातर पटाखा विक्रेताओं ने बताया कि पिछले पांच वर्षों के दौरान पटाखों की बिक्री में साल दर साल 20 प्रतिशत की गिरावट आई है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यही वजह है कि उन्होंने दीपावली के दौरान बेचने के लिए लाए जाने वाले पटाखों की मात्रा लगभग आधी कर दी है. सर्वे के मुताबिक कच्चे माल की कीमतों में बढ़ोतरी और बढ़ती महंगाई की वजह से भी लोग पटाखे खरीदने के प्रति हतोत्साहित हुए हैं और यह रुख पिछले कुछ वर्षों के दौरान बरकरार रहा है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)