NDTV Khabar

सरकार का ऐलान देश में चीनी की कमी नहीं, त्योहारों पर नहीं बढ़ेंगे दाम

केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि देश में चीनी की कोई कमी नहीं है और सरकार सुनिश्चित करेगी कि त्योहारों के दौरान खुदरा बाजार में चीनी के दाम नहीं बढ़ें.

312 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
सरकार का ऐलान देश में चीनी की कमी नहीं, त्योहारों पर नहीं बढ़ेंगे दाम

केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. केंद्रीय खाद्य मंत्री ने कहा, चीनी उत्पादक राज्यों में नहीं है कोई कमी
  2. खाद्य मंत्री ने कहा, त्योहारी सीजन के दौरान कीमतों को बढ़ने नहीं देंगे
  3. उन्होंने कहा, हम सुनिश्चित करेंगे कि चीनी के दाम स्थिर रहें
नई दिल्ली: केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि देश में चीनी की कोई कमी नहीं है और सरकार सुनिश्चित करेगी कि त्योहारों के दौरान खुदरा बाजार में चीनी के दाम नहीं बढ़ें. उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार मौजूदा समय में चीनी की खुदरा कीमत 43 रुपये प्रति किलो है जो कि पिछले साल इसी अवधि के 40 रुपये किलो के मुकाबले मामूली अधिक है.

यह भी पढ़ें : देश भर में 51 फीसदी राशन की दुकानों पर लगीं ‘प्वाइंट आफ सेल’ मशीनें

चीनी की कोई कमी नहीं
एक समारोह के मौके पर पासवान ने कहा, चीनी के प्रमुख उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में चीनी की कोई कमी नहीं है. त्योहारी सत्र के दौरान हम कीमतों को बढ़ने नहीं देंगे. हम सुनिश्चित करेंगे कि चीनी के दाम स्थिर रहें. पासवान ने कहा कि देश में चीनी आपूर्ति की कोई दिक्कत नहीं है. सरकार ने त्योहारी मौसम के दौरान चीनी की घरेलू आपूर्ति को बढ़ाने के लिए 25 प्रतिशत की रियायती दर पर तीन लाख टन कच्ची चीनी का आयात करने की दक्षिण की चीनी मिलों को अनुमति प्रदान की है. उन्होंने कहा कि देश में 2.77 करोड़ टन चीनी का स्टॉक है. इसमें वर्ष 2016-17 का 2.02 करोड़ टन का उत्पादन और 5
लाख टन का आयात तथा पिछले साल का 70 लाख टन का बचा हुआ स्टॉक शामिल है. 

यह भी पढ़ें : सस्ते राशन की कीमत लगातार पांचवें साल नहीं बढ़ेगी : रामविलास पासवान

VIDEO:राजस्थान के दौसा में बीपीएल कार्ड धारकों के साथ मजाक
इससे पूर्व भारतीय राष्ट्रीय सहकारी उपभोक्ता महासंघ (एनसीसीएफ) की वार्षिक आम बैठक को संबोधित करते हुए पासवान ने कहा कि वित्तवर्ष 2016-17 में सहकारी संघ ने 3.15 करोड़ रुपये का मुनाफा अर्जित किया है, जबकि इससे पूर्व वित्तवर्ष में उसे 7.02 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था. उन्होंने एनसीसीएफ जैसी सहकारी संस्थाओं को सुदृढ़ किये जाने की आवश्यकता पर भी जोर दिया. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement