NDTV Khabar

अर्थव्यवस्था की बुनियाद मजबूत, चिंता की कोई जरूरत नहीं : मायाराम

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नई दिल्ली:

डॉलर के मुकाबले रुपये में गिरावट एवं शेयर बाजार में बिकवाली दबाव को लेकर चिंतित निवेशकों को भरोसा दिलाते हुए वित्त मंत्रालय ने आज कहा कि अर्थव्यवस्था की बुनियाद ‘बहुत मजबूत’ है और चिंता की कोई वजह नहीं है।

आर्थिक मामलों के सचिव अरविंद मायाराम ने यहां संवाददाताओं से कहा, चालू खाते का घाटा 50 अरब डॉलर से नीचे है। विदेशी मुद्रा भंडार सार्वकालिक उच्च स्तर पर है। हमारी आर्थिक बुनियाद बहुत मजबूत है. मुझे नहीं लगता कि चिंता का कोई कारण है। वह रुपये में गिरावट के संबंध में पूछे गए एक सवाल का जवाब दे रहे थे। डॉलर के मुकाबले रुपया शुरुआती कारोबार में 62.75 प्रति डॉलर पर आ गया। वहीं बीएसई सेंसेक्स भी 300 अंक से अधिक टूट गया।

मायाराम ने कहा कि यदि अर्जेंटीना में कुछ होता है तो इससे भारतीय मुद्रा प्रभावित होने की कोई वजह नहीं है। मुझे इसमें कोई पारस्परिक संबंध नहीं दिखता। पिछले सप्ताह अर्जेंटीना की मुद्रा पेसो में भारी गिरावट आई थी।

उन्होंने कहा, रुपया एक सीमित दायरे में ऊपर-नीचे होगा। हमें इसको लेकर जरूरत से अधिक चिंतित नहीं होना चाहिए।

मायाराम ने कहा कि प्रत्येक मुद्रा अपनी अर्थव्यवस्था की बुनियाद की मजबूती के आधार पर प्रतिक्रिया करती है और चालू खाते के घाटे की स्थिति में उल्लेखनीय सुधार आया है।

यह पूछे जाने पर कि 2005 से पहले के करेंसी नोटों को वापस लेने का हाल ही में रिजर्व बैंक द्वारा किया गया निर्णय क्या कालेधन पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से किया गया है, मायाराम ने कहा कि  यह कालेधन की समस्या से निपटने का प्रयास नहीं है।उन्होंने यह भी कहा कि कम सुरक्षा विशेषताओं वाले नोटों को वापस लेने के निर्णय को करेंसी नोट खत्म करने के तौर पर नहीं देखा जा सकता।

टिप्पणियां


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement