अब टमाटर हुआ महंगा, सरकार को नई फसल से उम्मीद

अब टमाटर हुआ महंगा, सरकार को नई फसल से उम्मीद

नई दिल्ली:

प्याज, दाल के बाद अब टमाटर के दाम आसमान छूने लगे हैं। टमाटर के दाम करीब एक महीने में ही 50 प्रतिशत बढ़कर 62 रुपये किलो हो गए। सरकार ने कहा है कि नई फसल आने के साथ कीमतें नरम पड़ने की संभावना है।

टमाटर की कीमतें देश के विभिन्न हिस्सों में बढ़ी हैं, वहीं खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि आवश्यक जिंसों की उपलब्धता और जरूरी उपायों की समीक्षा के लिए कल एक उच्च स्तरीय बैठक होगी। दिल्ली में टमाटर का भाव एक महीने पहले के 41 रुपये किलो से बढ़कर अब 62 रुपये किलो हो गया है। प्रमुख शहरों में टमाटर का औसत भाव महीना भर पहले के 30 रुपये से बढ़कर 50 रुपये किलो हो गया।

सरकार रख कर दाम पर नजर
एक सरकारी बयान में कहा गया है, पिछले सप्ताह प्याज और टमाटर की कीमतों में मामूली वृद्धि व्यापक तौर पर दक्षिणी राज्यों से आपूर्ति में बाधा के कारण हुई है। दक्षिणी राज्यों से आपूर्ति में बाधा का कारण पिछले एक सप्ताह के दौरान वहां भारी बरसात का होना है। केन्द्र ने कहा कि वह विगत कुछ दिनों में प्रतिकूल मौसम को देखते हुए आवश्यक जिंसों की दरों पर दबाव के मद्देनजर मांग एवं आपूर्ति की स्थिति पर करीबी नजर रखे हुए है।

बयान में कहा गया है, मांग और आपूर्ति के अंतर के कारण सितंबर से दिसंबर के दौरान कीमतों में मामूली वृद्धि हुई है। सरकार कीमतों में असामान्य वृद्धि को रोकने और आवश्यक जिंसों की पर्याप्त उपलब्धता को सुनिश्चित करने के मकसद से तत्काल कार्रवाई करने के लिए राज्य सरकारों के साथ नजदीकी के साथ काम कर रही है।

फिर बढ़े सब्जियों के दाम
सरकार ने कहा कि प्याज की कीमत सप्ताह भर पहले के 36.82 रुपये से बढ़कर 37.52 रुपये किलो हो गई। इसी प्रकार टमाटर की कीमत 43.18 रुपये प्रति किलो है जो सप्ताह भर पहले 35.23 रुपये किलो थी। दलहनों में अरहर दाल की कीमत अब 151.67 रुपये किलो हो गई है जो पहले 149.91 रुपये किलो थी। जबकि उड़द दाल की कीमत बढ़कर 141.47 रुपये किलो हो गई जो कीमत सप्ताह भर पहले 137.06 रुपये किलो थी।

एक उच्च स्तरीय बैठक 18 नवंबर को
बयान में कहा गया है, आवश्यक जिंसों की उपलब्धता और उनके कीमतों की समीक्षा करने तथा जरूरी उपायों की समीक्षा के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक 18 नवंबर को होनी तय है। बैठक में दलहनों के लिए जमाखोरी रोधी अभियान और उचित कीमत पर इसकी उपलब्धता की स्थिति बनाने के लिए राज्यों द्वारा उठाए गए कदमों की समीक्षा की जाएगी। बैठक में बफर स्टॉक बनाने के ध्येय से दलहनों की खरीद की दिशा में हुई प्रगति की भी समीक्षा की जाएगी।

आपूर्ति बढ़ने के बाद जल्द ही टमाटर की थोक बिक्री कीमत में गिरावट आएगी
आजादपुर मंडी के कुछ व्यापारियों ने उम्मीद जताई है कि आपूर्ति बढ़ने के बाद जल्द ही टमाटर की थोक बिक्री कीमत में गिरावट आएगी। आजादपुर मंडी के एक व्यापारी सुभाष चुक ने कहा, त्यौहारों की छुट्टियों के कारण पिछले सप्ताह टमाटर की आपूर्ति में काफी कमी आई है और इसके परिणामस्वरूप कीमतें काफी बढ़ी हैं। उन्होंने कहा कि थोक बाजार में उच्च गुणवत्ता वाला टमाटर आज 20 से 25 रुपये किलो बिक रहा था जो कीमत कल 30 से 35 रुपये किलो थी। उन्होंने कहा, आने वाले दिनों में आपूर्ति में सुधार आने के कारण कीमतों के कम होने की उम्मीद है।

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com