NDTV Khabar

ऐप बेस्ड टैक्सी कंपनी ओला को 2015-16 में रोजाना हुआ 6 करोड़ रुपये का घाटा, जानें क्यों

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ऐप बेस्ड टैक्सी कंपनी ओला को 2015-16 में रोजाना हुआ 6 करोड़ रुपये का घाटा, जानें क्यों

ओला को 2015-16 में रोजाना 6 करोड़ रुपये का घाटा हुआ

खास बातें

  1. ओला को 2014-15 के 796 करोड़ की तुलना में 2015-16 में 3 गुणा ऊंचा घाटा हुआ
  2. कंपनी को प्रचार-प्रसार पर काफी खर्च करना पड़ा, कर्मचारी खर्च भी ऊंचा रहा
  3. अमेरिकी कंपनी उबर से ओला की कड़ी प्रतिस्पर्धा है
नई दिल्ली: जापानी निवेश कंपनी सॉफ्टबैंक के सहयोग से चलने वाली मोबाइल ऐप आधारित टैक्सी सेवा संचालक ओला को वित्त वर्ष 2015-16 में एकीकृत 2311 करोड़ रुपये यानी रोजाना छह करोड़ रुपये का घाटा हुआ. इस दौरान कंपनी को प्रचार-प्रसार पर काफी खर्च करना पड़ा और कर्मचारी खर्च भी ऊंचा रहा. बेंगलुरु की कंपनी ओला ने कॉरपोरेट मंत्रालय को दी गई सूचना में बताया है कि उसे 2014-15 के 796 करोड़ की तुलना में 2015-16 में तीन गुणा ऊंचा घाटा हुआ. ओला की अमेरिकी कंपनी उबर से कड़ी प्रतिस्पर्धा है.

ओला का परिचालन करने वाली एएनआई टेक्नोलॉजी के राजस्व में 2015-16 में 758.23 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई, जबकि उसके पिछले वित्त वर्ष में यह 103.77 करोड़ रुपये थी. हालांकि ओला ने उसे भेजे गए ई-मेल का जवाब नहीं दिया.

टिप्पणियां
रिसर्च एवं एनालिटिक्स कंपनी टोफ्लर की सह-संस्थापक आंचल अग्रवाल ने कहा कि वैसे कुल घाटा बड़ा है, लेकिन नुकसान का अंतर काफी कम हुआ है. उन्होंने कहा कि कंपनी 2014-15 में हर एक रुपये की कमाई पर 8.5 रुपये खर्च करती थी, जो 2015-16 में हर एक रुपये पर चार रुपये हो गया था.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement