NDTV Khabar

कागज उद्योग ने घरेलू कारोबारियों के लिए मोदी सरकार से मांगी मदद

विशेष तौर पर आसियान देशों से होने वाले आयात पर नजर रखने के लिए कहा गया है.

94 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
कागज उद्योग ने घरेलू कारोबारियों के लिए मोदी सरकार से मांगी मदद
नई दिल्ली: कागज उद्योग ने घरेलू कारोबारियों के संरक्षण के लिए सरकार से कागज के सस्ते आयात पर नजर रखने में सहयोग मांगा है. इसमें भी विशेषतौर पर आसियान देशों से होने वाले आयात पर नजर रखने के लिए कहा गया है. ‘पेपरेक्स’ कार्यक्रम से इतर सेंचुरी पल्प एंड पेपर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जे. पी. नारायण ने  कहा, ‘‘ कागज उद्योग के सामने बड़ी चुनौतियों में से एक है सस्ता आयात.

घर खरीदने वालों के लिए खुशखबरी, एसबीआई ने होम लोन पर ब्याज दर घटाई, कार लोन भी हुआ सस्‍ता

कागज उद्योग ने अपने संगठन भारतीय कागज विनिर्माता संघ (आईपीएमए) के माध्यम से सरकार से कागज आयात में कटौती करने या इस पर डंपिंग रोधी शुल्क लगाने के लिए कहा है.’’ नारायण ने कहा कि सस्ते आयात से घरेलू कंपनियों को अपनी कीमतें घटानी पड़ती हैं और इसका असर उनके मार्जिन और लाभ पर पड़ता है.

वीडियो :  बुलेट ट्रेन कितना जरूरी

ट्राइडेंट के तकनीकी सलाहकार आरसी जोहारी ने कहा कि आयातित कागज चार से पांच रुपये प्रति किलोग्राम सस्ता है और घरेलू कागज विनिर्माताओं के सामने यह सबसे बड़ी चुनौती है. कल केंद्रीय मंत्री सी. आर. चौधरी ने कागज विनिर्माताओं से कहा था कि वैश्विक बाजारों से प्रतिस्पर्धा के लिए वह अपना तकनीक उन्नत करें.

इनपुट : भाषा


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement