जीएसटी (GST) : स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) सेविंग अकाउंट से संबंधित यह नया नियम आपको पता है?

यदि सर्विस चार्ज की ही बात करें तो जहां पहले सेवा शुल्क 15 फीसदी हुआ करता था वहीं अब जीएसटी लागू होने के बाद इसकी जगह पर लगा कर यानी जीएसटी 18 फीसदी है.

जीएसटी (GST) : स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) सेविंग अकाउंट से संबंधित यह नया नियम आपको पता है?

जीएसटी (GST) : SBI सेविंग अकाउंट और एटीएम विदड्राल से संबंधित नियम में बदलाव (प्रतीकात्मक फोटो)

खास बातें

  • जीएसटी लागू होने के बाद सर्विस चार्ज की जगह लगे जीएसटी का रेट अधिक है
  • इसके चलते सेविंग बैंक खाते से जुड़े कुछ ट्रांजैक्शन चार्ज बढ़ गए हैं
  • यदि आप एसबीआई बडी यूज करते हैं तो यह खबर जरूर पढ़ें
नई दिल्ली:

दुनिया के 50 सबसे बड़े बैंकों में से एक और देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने अपने कुछ नियमों और फीस में परिवर्तन किया है. यदि आपका भी SBI में खाता है तो इन नियमों से जल्द से जल्द वाकिफ हो जाएं ताकि किसी प्रकार की दिक्कत न हो. 1 जुलाई से जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) देशभर में लागू हो जाने के बाद बैंकों द्वारा जिन चार्जेस को बढ़ाया गया है उनका भार कुल मिलाकर कस्टमर पर ही पड़ रहा है. यदि सर्विस चार्ज की ही बात करें तो जहां पहले सेवा शुल्क 15 फीसदी हुआ करता था वहीं अब जीएसटी लागू होने के बाद इसकी जगह पर लगा कर यानी जीएसटी 18 फीसदी है. ऐसे में जाहिर तौर पर बैंक कस्टमर को अब सेवाओं के वहन के लिए ज्यादा कीमत चुकानी होगी. 


एसबीआई ने अपने मोबाइल ऐप एसबीआई बैंक बडी (SBI Bank Buddy) के यूजर्स  समेत कुछ और कैश ट्रांजैक्शन्स संबंधी एटीएम निकासी के सर्विस चार्ज में कुछ हफ्ते पहले बदलाव किए थे जोकि 1 जून से लागू हो चुके हैं. एसबीआई बैंक अपने बडी ऐप के इस्तेमाल से एटीएम से पैसे निकालने पर प्रति निकासी 25 रुपये का चार्ज लगेगा. एसबीआई का यह बैंक बडी ऐप असल में अपेक्षाकृत नई फैसिलिटी है जोकि बैंक के मौबाइल वॉलेट के इस्तेमाल के जरिए एटीएम से पैसे निकालने की सुविधा प्रदान करता है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एसबीआई ने कहा है कि बैंक बडी के इस्तेमाल के जरिए एटीएम से निकासी पर अब 25 रुपये से कुछ अधिक जीएसटी लगेगा. यदि आप एसबीआई बडी से अपने बैंक के सेविंग अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करते हैं तो आपको 3 फीसदी + टैक्स चुकाने होंगे. एसबीआई ने यह बात एक प्रेस रिलीज के माध्यम से कही.