एसबीआई सहयोगी बैंकों के विलय के बाद 'एक बैंक' के तौर पर खुला

एसबीआई सहयोगी बैंकों के विलय के बाद 'एक बैंक' के तौर पर खुला

एसबीआई सहयोगी बैंकों के विलय के बाद 'एक बैंक' के तौर पर खुला (प्रतीकात्मक फोटो)

नई दिल्ली:

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) पांच सहयोगी बैंकों के विलय के बाद सोमवार को एक बैंक के तौर पर खुला. विलय के बाद एसबीआई के ग्राहकों की संख्या 50 करोड़ हो गई है. एसबीआई की अध्यक्ष अरुंधति भट्टाचार्य ने बताया कि बैंक ने सोमवार से सामान्य तौर पर कामकाज करना शुरू किया.

जिन सहयोगी बैंकों का एसबीआई में विलय किया गया है, उनमें स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर और स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर शामिल हैं.

भट्टाचार्य ने बताया, "एसबीआई आज (सोमवार) से एक बैंक के रूप में खुल गया और इसका कामकाज विलय से पहले की तरह ही सामान्य रहेगा." एसबीआई और सहयोगी बैंकों के कोषों को भी पूरी तरह से एकीकृत कर दिया गया है और अब इन्होंने एकल इकाई की तरह कामकाज करना शुरू कर दिया है.

इस विलय के साथ ही अब एसबीआई परिसंपत्तियों के संदर्भ में विश्व के शीर्ष 50 बैंकों में शुमार हो गया है..

 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com