टेप लीक पर टाटा ने सरकार को आड़े हाथों लिया

खास बातें

  • टाटा ने आरोप लगाया कि सरकार पूरे मामले में व्यक्तिगत निजता के उल्लंघन को लेकर लापरवाह रही। टाटा ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर किया है।
New Delhi:

टाटा समूह के चेयरमैन रतन टाटा ने कंपनियों के लिए जनसंपर्क का काम करने वाली नीरा राडिया के साथ उनकी बातचीत का टैप सार्वजनिक होने के मामले में सरकार के ढुलमुल रवैये की तीखी आलोचना की। टाटा ने आरोप लगाया कि सरकार पूरे मामले में व्यक्तिगत निजता के उल्लंघन को लेकर लापरवाह रही। टाटा ने यह आरोप उच्चतम न्यायालय में दाखिल हलफनामे में लगाया है। उनकी याचिका पर सरकार द्वारा दिये गये जवाब की प्रतिक्रिया में उन्होंने यह हलफनामा दायर किया। टाटा ने उच्चतम न्यायालय में दाखिल अपनी याचिका में निजता की सुरक्षा की मांग की थी। उन्होंने इसे मौलिक अधिकारों से जुड़ा मामला बताया था। टाटा ने कहा कि केंद्र के हलफनामे से ऐसा लगता है कि सरकार यह मानती तो है कि टैप की गयी सामग्री को सुरक्षित रखे जाने की जरूरत है लेकिन इसकी सुरक्षा में असफल होने की स्थिति में कोई सुधारात्मक कदम उठाने को लेकर वह गंभीर नहीं लगती। उन्होंने कर कानून के उल्लंघन मामलों की जांच में फोन टैप की बढ़ती घटनाओं पर आपत्ति जताई और कहा कि इस प्रकार के प्रावधान का इस्तेमाल केवल देश की सुरक्षा से जुड़े गंभीर मामलों में ही किया जाना चाहिए। टाटा ने कहा कि सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि इस तरह की बातचीत का टैप सार्वजनिक नहीं हो। उन्होंने इसे निजता के उल्लंघन का गंभीर मामला बताया और दो लोगों के बीच निजी तौर पर होने वाली हल्की-फुल्की बातचीत को प्रकाशित करने की पत्रकारिता पर भी सवाल उठाया।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com