NDTV Khabar

काम की खबर : देश की इन 25 ट्रेनों में यात्रियों को मिलेगी यह खास सुविधा

इससे अधिक पैसा मांगे जाने या छुट्टे के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा. हाल में शुरू हुई यह सुविधा सभी जोन में चरणबद्ध तरीके से लागू होगी. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
काम की खबर : देश की इन 25 ट्रेनों में यात्रियों को मिलेगी यह खास सुविधा

भारतीय रेलवे में भोजन व्यवस्था में सुधार के प्रयास किए हैं.

खास बातें

  1. भारतीय रेल अपनी सेवाओं में सुधार के लिए प्रयासरत
  2. कुछ ट्रेनों के साथ डिजिटल पेमेंट की शुरुआत
  3. खाने के लिए मीनू सिस्टम भी हुआ लागू.
नई दिल्ली:

भारतीय रेलवे अपने यात्रियों की सुविधाओं में इजाफा करने के लिए काफी समय से प्रयासरत हैं. रेलवे में यात्रियों को समय से पहुंचाने और सफर के दौरान खान-पान और आराम की अच्छी व्यवस्था के लिए समय-समय पर आवश्यक बदलाव किए जाते रहे हैं. अब से 25 रेलगाड़ियों के यात्री अपने भोजन के लिए पहले से तैयार मेन्यू में से भोजन चुन सकेंगे और क्रेडिट या डेबिट कार्ड से भुगतान भी कर सकेंगे. इससे अधिक पैसा मांगे जाने या छुट्टे के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा. हाल में शुरू हुई यह सुविधा सभी जोन में चरणबद्ध तरीके से लागू होगी. एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘विक्रेता के पास पीओएस मशीन होगी और पहले से लोड किया हुआ सॉफ्टवेयर होगा जिसमें यात्री मेन्यू और कीमतें देख सकेंगे. इसमें हेरफेर नहीं किया जा सकेगा.’’ 

पढ़ें - 2017-18 में एक रुपया कमाने के लिए रेलवे का 98.5 पैसे खर्च


कीमतें तय होंगी और यात्री भोजन के लिए अपने कार्ड से भुगतान कर सकेंगे. उन्होंने कहा, ‘‘इसके यात्री को तीन फायदे होंगे- पहला तो यह कि भोजन अधिकृत विक्रेता से मिलेगा, दूसरा यह तय कीमत पर मिलेगा और तीसरा खुल्ले पैसे के लिए परेशान होने की जरूरत नहीं रहेगी.’’ 

पढ़े - राजधानी, दुरंतो एक्सप्रेस के देर से चलने पर यात्रियों को मुफ्त में मिलेगी पानी की बोतल

टिप्पणियां

जिन रेलगाड़ियों में कार्ड से भुगतान के लिए पीओएस मशीनें दी जाएंगी उनमें बंगलुरू से नई दिल्ली तक चलने वाली कर्नाटक एक्सप्रेस, जम्मू तवी-कोलकाता सियालदह एक्सप्रेस और नई दिल्ली से हैदराबाद के बीच चलने वाली तेलंगाना एक्सप्रेस शामिल है. जयपुर से मुंबई के बीच चलने वाली अरावली एक्सप्रेस में भी यह सुविधा होगी. 


एक अन्य अधिकारी ने बताया कि फिलहाल रेलवे के पास 76 पीओएस मशीनें हैं. कितनी और ट्रेनों में इनका इस्तेमाल किया जा सकता है, यह आकलन किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि यह कदम इसलिए उठाया गया क्योंकि यात्रियों की ओर से भोजन के लिए ज्यादा पैसा वसूले जाने की शिकायतें मिल रही थीं. (भाषा से इनपुट)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement