NDTV Khabar

भारतीय रिजर्व बैंक की नीतियां वृद्धि के अनुकूल नहीं : फिक्की प्रमुख

चार अक्टूबर को अपनी मौद्रिक नीति समीक्षा में रिजर्व बैंक ने नीतिगत ब्याज दरों को छह प्रतिशत के पूर्वस्तर पर बनाए रखा जबकि चालू वित्त वर्ष के लिए उसने देश की आर्थिक वृद्धि के अनुमान को घटाकर 6.7% कर दिया.

9 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारतीय रिजर्व बैंक की नीतियां वृद्धि के अनुकूल नहीं : फिक्की प्रमुख

(फाइल फोटो)

खास बातें

  1. नीतियों की आलोचना करते हुए कहा कि ये ‘उद्योग जगत के अनुकूल’ नही.
  2. पटेल ने कहा कि इस तरह के कदम ‘विकास विरोधी हैं.
  3. रिजर्व बैंक उचित व्यवहार नहीं कर रहा है.
वाशिंगटन: औद्योगिक मंडल फिक्की के अध्यक्ष पंकज पटेल ने शनिवार को भारतीय रिजर्व बैंक की नीतियों की आलोचना करते हुए कहा कि ये ‘उद्योग जगत के अनुकूल’ नहीं हैं और नीतिगत दरों में कटौती नहीं करके रिजर्व बैंक देश की आर्थिक वृद्धि में बाधा उत्पन्न कर रहा है. गौरतलब है कि चार अक्टूबर को अपनी मौद्रिक नीति समीक्षा में रिजर्व बैंक ने नीतिगत ब्याज दरों को छह प्रतिशत के पूर्वस्तर पर बनाए रखा जबकि चालू वित्त वर्ष के लिए उसने देश की आर्थिक वृद्धि के अनुमान को घटाकर 6.7% कर दिया.

पटेल ने कहा कि इस तरह के कदम ‘विकास विरोधी’ हैं.

यह भी पढ़ें : रिटायरमेंट के बाद के लिए पेंशन सिस्टम पर जल्द से जल्द ध्यान देने की जरूरत : FICCI-KPMG रिपोर्ट

यहां भारतीय पत्रकारों के एक समूह से पटेल ने कहा, ‘रिजर्व बैंक उचित व्यवहार नहीं कर रहा है. यह (रिजर्व बैंक की नीतियां) विकास विरोधी है.’ उन्होंने कहा कि भारतीय उद्योग को आशा है कि ब्याज दरों में कमी आएगी और रिजर्व बैंक सही दृष्टिकोण अपनाएगा.

VIDEO : आरुषि-हेमराज मर्डर केस में तलवार दंपति बरी


पटेल ने कहा, ‘हम (उद्योग) ब्याज दरों में कटौती चाहते हैं. यह हमारे लिए अब एक बड़ी समस्या बन गयी है. आज की तारीख में भारत में वास्तविक ब्याज दर करीब 6% के बराबर है.’ पटेल ने कहा कि वृद्धि, मुद्रास्फीति और ब्याज दरों के बीच एक संतुलन होना चाहिए.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement