NDTV Khabar

क्रिप्टोकरेंसी पर रोक की आरबीआई की कोशिश, दिल्ली हाईकोर्ट ने जारी किया नोटिस

आरबीआई के परिपत्र में बैंकों एवं वित्तीय संस्थानों को ऐसे किसी व्यक्ति या कारोबारी इकाइयों को सेवा उपलब्ध कराने से रोका गया है जो आभासी मुद्रा से जुड़े हों.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
क्रिप्टोकरेंसी पर रोक की आरबीआई की कोशिश, दिल्ली हाईकोर्ट ने जारी किया नोटिस

क्रिप्टोकरेंसी.

नई दिल्ली:

दिल्ली हाई कोर्ट ने आभासी मुद्रा जैसे 'क्रिप्टोकरेंसी' को लेकर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के परिपत्र (सर्कुलर) को चुनौती देने वाली याचिका पर केंद्र सरकार, रिजर्व बैंक और जीएसटी परिषद से जवाब मांगा है. आरबीआई के परिपत्र में बैंकों एवं वित्तीय संस्थानों को ऐसे किसी व्यक्ति या कारोबारी इकाइयों को सेवा उपलब्ध कराने से रोका गया है जो आभासी मुद्रा से जुड़े हों.

पढ़ें: तीन महीने के भीतर बिटकॉइन की कीमत हो जाएगी 'जीरो'! RBI ने लिया यह बड़ा फैसला

न्यायमूर्ति एस रवींद्र भट और ए के चावला की पीठ ने वित्त मंत्रालय, आरबीआई और जीएसटी परिषद को नोटिस जारी करके 24 मई तक अपना जवाब देने को कहा है.

पढ़ें: बिटकॉइन में निवेश करने वालों के लिए बेहद जरूरी खबर, वित्त मंत्रालय ने दिया यह बड़ा बयान- 10 खास बातें


न्यायालय में इस मामले को लेकर याचिका गुजरात की एक कंपनी कली डिजीटल इकोसिस्टम्स प्राइवेट लिमिटेड की ओर से दायर की गयी है. कंपनी का कहना है कि वह भारत में आभासी मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) विनिमय प्रणाली शुरू करना चाहती है. कंपनी ने याचिका में दावा किया कि इस संबंध में उसने पहले ही बड़ा निवेश कर रखा है और इस वर्ष अगस्त में 'क्वाइन रीकोइल' नाम से विनिमय प्रणाली शुरू करने की योजना बनाई है.

पढ़ें : वर्चुअल करेंसी (क्रिप्टोकरेंसी) को लेकर वित्त मंत्रालय ने दी निवेशकों को चेतावनी

टिप्पणियां

आरबीआई के परिपत्र के तहत, आरबीआई के विनियमन के तहत आने वाली इकाइयां ऐसे किसी व्यक्ति या कारोबारी इकाइयों को सेवा उपलब्ध नहीं कराएंगी जो आभासी मुद्रा से जुड़े हों. साथी ही वे इकाइयां जो पहले से ऐसी सेवाएं दे रही है उन्हें तीन महीने में इसे बंद करने के लिए कहा गया है.

याचिका में परिपत्र को मनमाना, असंवैधानिक और संविधान का उल्लंघन "करार देते हुए रद्द करने की मांग की गई है और जीएसटी परिषद को" आभासी मुद्रा पर उचित विनियमन तैयार" करने के लिए दिशानिर्देश की मांग की गई है. (इनपुट भाषा से भी)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement