Budget
Hindi news home page

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने की एक लाख करोड़ रुपये निवेश की घोषणा

ईमेल करें
टिप्पणियां
गांधीनगर: रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने आगामी एक से डेढ़ साल में अपने विभिन्न प्रकार के कारोबार में एक लाख करोड़ रुपये के नए निवेश की रविवार को घोषणा की। उन्होंने यह भी कहा कि भारत दुनिया में सबसे तेजी से वृद्धि करने वाली अर्थव्यवस्था बनने की राह पर है।
 
रिलायंस अपने इस निवेश से पेट्रोरसायन कारोबार की उत्पादन क्षमता का विस्तार करने के साथ-साथ चिर प्रतीक्षित 4-जी ब्राडबैंड नेटवर्क सेवा शुरू करेगा और सरकार के ‘मेक इन इडिया’ और ‘डिजिटल इंडिया पहल’ में योगदान करेगा। देश के दिग्गज उद्योगपति अंबानी ने यहां सातवें वायब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘मेक इन इंडिया’ तथा ‘डिजिटल इंडिया’ अभियान के जरिये घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देने तिथा रोजगार सृजन का जोरदार आह्वान किया है। दोनों अभियान ने भारत और इसके उद्यमों में एक नया जोश पैदा किया है।’’
 वाइब्रेंट गुजरात समिट में बोलते हुए मुकेश अंबानी
उन्होंने शिखर सम्मेलन के उद्घाटन समारोह में कहा, ‘‘हम ‘मेक इन इंडिया’ और ‘डिजिटल इंडिया’ मुहिम में योगदान करते हुए अगले 12 से 18 महीनों में 100,000 करोड़ रुपये से अधिक निवेश करेंगे।’’ समारोह में मोदी के साथ तमाम दिग्गज उद्योगपति तथा दुनिया भर से आए बड़े नेता उपस्थित थे।
 
अंबानी ने कहा कि निवेश कार्यक्रम के हिस्से के तहत रिलायंस इंडस्ट्रीज समृद्धि के लिये छोटी कंपनियों तथा गुजरात उद्यमियों के साथ सहयोग करेगी।
 
उन्होंने कहा, ‘‘भारत वैश्विक शक्ति के रूप में उभरने के लिये स्पष्ट दृष्टिकोण के साथ आगे बढ़ रहा है और यह ऐसे समय हो रहा है दुनिया के अधिकतर देश आर्थिक नरमी से उबरने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।
 
मुकेश अंबानी ने कहा, ‘‘भारत वास्तव में हमारे प्रधानमंत्री के नेतृत्व में अगले कुछ साल में दुनिया में सबसे तेजी से वृद्धि हासिल करने वाली अर्थव्यवस्था बन सकता है। इस लक्ष्य को हासिल करना संभव है।’’ रिलायंस इंडस्ट्रीज चार जगहों पर कुल मिलाकर पालीस्टर क्षमता में 60 प्रतिशत वृद्धि के लिए निवेश कर रही है। इसके अलावा जामनगर में एक नयी 15 लाख टन क्षमता की रिफाइनरी से निकलने वाली गैस पर आधारित पेट्रोरसायन क्रैकर तथा प्रसंस्करण इकाई लगाई जाएंगी, पेट्रोलियम कोक (कचरे) से बना कर रिफाइनिंग लाभ बढ़ाने तथा अमेरिका से सस्ती दर पर ईथेन का आयात कर पेट्रोरसायन कारोबार के लिये कच्चे माल की लागत कम करने की परियोजना है। अंबानी ने कहा कि बह अब तक सभी वायब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलनों में भाग ले चुके हैं।
उन्होंने कि ‘‘मोदी वैश्विक स्तर के नेता है जिस पर भारत को गर्व है।’’ उन्होंने कहा कि गुजरात सहस्त्राब्दी विकास लक्ष्यों (एमडजी) को हासिल करने में अगुवा है।
 
अंबानी ने उद्योगपतियों को अपनी कंपनी का अनुकरण करने का आह्वान करते हुए कहा, ‘‘रिलायंस गुजरात की सफलता की कहानी का अभिन्न हिस्सा रही है। पिछले तीन से अधिक दशकों में हमने व्यापार दृष्टिकोण को वास्तविकता में बदलने के लिये बार-बार निवेश किया।’’
 
उन्होंने कहा कि गुजरात ने जो हमें दिया है, हम ब्याज समेत उसे लौटाने को लेकर प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हम सभी को सहयोग की भावना के साथ काम करना होगा।’’


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement