Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

'खुदरा महंगाई 2-6 फीसदी की सीमा में ही रहेगी, दिसंबर में भी हो सकता है रेट कट'

बाजार सलाह तथा वैश्विक वित्तीय सेवाएं देने वाली कंपनी बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच (बोफाएमएल) की रिपोर्ट में यह कहा गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
'खुदरा महंगाई 2-6 फीसदी की सीमा में ही रहेगी, दिसंबर में भी हो सकता है रेट कट'

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:

आने वाले महीनों में खुदरा महंगाई रिजर्व बैंक की तय सीमा 2-6 प्रतिशत के बीच रहने की उम्मीद है तथा इसके आधार पर दिसंबर में नीतिगत दरों में 25 आधार अंकों की कटौती की भी संभावना है.

पढ़ें- जुलाई माह में थोक महंगाई दर 1.88% बढ़ी, साथ ही खाने-पीने की चीजें भी हुईं महंगी

बाजार सलाह तथा वैश्विक वित्तीय सेवाएं देने वाली कंपनी बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच (बोफाएमएल) की रिपोर्ट के अनुसार, वैश्विक स्तर पर वस्तुओं के भाव में गिरावट के बीच अच्छी बारिश, वृद्धि तथा आयात अपेक्षाकृत सस्ता रहने से मंहगाई का दबाव नियंत्रित रहने की संभावना है.

पढ़ें- भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) का सर्वेक्षण- मजबूत हो रही है भारतीय अर्थव्यवस्था


फर्म ने अपनी एक ताजा रपट में कहा है कि रिजर्व बैंक अक्टूबर में होने वाली नीतिगत समीक्षा बैठक में ब्याज दर स्थिर रखने के बाद छह दिसंबर की उससे अगली बैठक में इसे प्रतिशत 0.25 अंक घटा सकता है.

बोफाएमएल ने उम्मीद जतायी है कि 2018 के पहले छह महीनों में महंगाई औसतन 4.5 फीसदी रहेगी तथा मार्च तक सामान्य हो कर 4.7 प्रतिशत के स्तर पर रहेगी.

टिप्पणियां

वीडियो- महंगाई में 'आटा गीला', दो हफ्ते में 25 फीसदी तक मंहगा हुआ

उसने कहा, ‘‘महंगाई के रिजर्व बैंक की तय सीमा 2-6 प्रतिशत के बीच ही रहने की उम्मीद है. हम इसीलिये उम्मीद करते हैं कि रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति छह दिसंबर को नीतिगत दर प्रतिशत 0.25 अंक घटाएगी.’’
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... क्या ऐसे ट्रंप की नजरों से छुप जाएगी गरीबी?

Advertisement