NDTV Khabar

सोशल मीडिया पर बिफरे परेशान लोग, बुलंद हुआ #RollBackEPF का नारा

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सोशल मीडिया पर बिफरे परेशान लोग, बुलंद हुआ #RollBackEPF का नारा
नई दिल्ली: सोमवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा पेश किए गए बजट में एंप्लॉयी प्रॉविडेंट फंड (ईपीएफ), पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ) और नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस) से निकाली जाने वाली रकम पर टैक्स लगाने की बात कही गई थी। नौकरीपेशा मध्यम वर्ग के लोगों में सरकार के इस कदम पर लोगों में काफी गुस्सा देखा गया और इसे 'नैतिक रूप से' गलत कहा गया। सोशल मीडिया पर इसे लेकर लोगों ने खासी भड़ास निकाली और इन फैसलों को वापस लेने के लिए कहा। हालांकि आज राजस्व सचिव द्वारा कहा गया कि पीपीएफ में योगदान पर कर छूट बरकरार रहेगी और निकासी पर कोई कर नहीं लगेगा।

टिप्पणियां
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट करके कहा- कई लोगों से मैंने बात की। लोग काफी नाराज हैं। आम आदमी द्वारा EPF/PPF  निकालने पर टैक्स लगेगा, अमीरों पर कर्ज माफ कर दिए गए हैं, काले धन वालों को माफी दी जा रही है।
@RamprasadGK ने कहा, #RollBackEPF और जिस सैलरी क्लास ने आपको सत्ता सौंपी है, उसका सम्मान करें।
Shivaprasath ‏@shivprasath  सर,  कृपया  #RollBackEPF टैक्स... मैं एक मध्यमवर्गीय परिवार से हूं और मेरी पढ़ाई उसी पैसे से पूरी हो सकी जिसे हमने ईपीएफ से निकाला।
  राजस्व सचिव ने किए राहत का ऐलान...
हालांकि मंगलवार को राजस्व सचिव हंसमुख अढिया ने सफाई दी है कि एक अप्रैल 2016 के बाद ईपीएफ के 60 प्रतिशत योगदान पर मिलने वाले ब्याज पर ही कर लगेगा जबकि मूल राशि पर कर छूट बरकरार रहेगी। उन्होंने कहा, 15,000 रुपए प्रति माह तक की कम तनख्वाह वाले कर्मचारियों को प्रस्तावित ईपीएफ कराधान के बाहर रखा जाएगा। साथ ही, उन्होंने कहा कि पीपीएफ में योगदान पर कर छूट बरकरार रहेगी और निकासी पर कोई कर नहीं लगेगा।
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement