SBI ने एक महीने में दूसरी बार कम की ब्‍याज दरें, कार और होम लोन होंगे सस्‍ते

तीन माह अ‍वधि के लिए MCLR को 7.65 प्रतिशत से घटाकर 7.50 प्रतिशत कर दिया गया है. इस तरह दो साल और तीन साल के MCLR को 0.10 प्रतिशत घटाकर क्रमश: 7.95 प्रतिशत और 8.05 प्रतिशत कर दिया गया है.

SBI ने एक महीने में दूसरी बार कम की ब्‍याज दरें, कार और होम लोन होंगे सस्‍ते

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  • MCLR में 0.15 प्रतिशत तक की कटौती की है
  • यह कटौती 10 मार्च से प्रभावी होगी
  • बैंक ने एक साल अवधि के लिए MCLR में 0.10 प्रतिशत की कटौती की है
मुंबई:

देश के सबसे बड़ा बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने बुधवार को विभिन्न परिपक्वता अवधि की मियादी जमाओं (Recurring Deposit) तथा कोष की सीमांत लागत आधारित ब्याज दरों (MCLR) में कटौती की घोषणा की. बैंक ने कहा कि होम लोन और फिक्स डिपॉजिट नई दरें 10 मार्च से प्रभाव में होंगी. बैंक ने एक महीने में दूसरी बार ब्याज में कटौती की है. SBI ने विभिन्न परिपक्वता अवधि के लिए खुदरा मियादी जमा (2 करोड़ रुपये से कम) पर ब्याज दरों में 0.10 प्रतिशत से 0.50 प्रतिशत की कटौती की है. सात दिन से 45 दिन में परिपक्व होने वाले मियादी जमाओं पर ब्याज दर अब 4 प्रतिशत होगी जो पहले 4.50 प्रतिशत थी. वहीं एक साल और उससे अधिक अवधि के लिये जमाओं पर ब्याज दर में 0.10 प्रतिशत की कटौती की गई है.

एक साल से दो साल से कम अवधि के लिए मियादी जमा पर ब्याज दर अब 5.90 प्रतिशत होगी जो पहले 6 प्रतिशत थी. बुजुर्गों के लिए इसी अवधि के लिए मियादी जमा पर ब्याज दर अब 6.50 प्रतिशत के बजाए 6.40 प्रतिशत होगी. बैंक ने 180 दिन और उससे अधिक अवधि के लिए दो करोड़ रुपये और उससे अधिक (थोक जमा) की मियादी जमाओं पर ब्याज दर में 0.15 प्रतिशत की कटौती की है. एक साल और उससे अधिक की अवधि की थोक जमा राशि पर ब्याज दर अब 4.60 प्रतिशत होगी जो पहले 4.75 प्रतिशत थी.

SBI चेयरमैन बोले- येस बैंक से निकासी पर लगी सीमा "एक हफ्ते के अंदर" हो सकती है खत्म

इससे पहले फरवरी में बैंक ने खुदरा मियादी जमाओं पर ब्याज दरों में 0.10 से 0.5 प्रतिशत की कटौती की थी. जबकि थोक जमा के मामले में 0.25 से 0.50 प्रतिशत की कटौती की गई है. SBI के अनुसार इसके अलावा बैंक ने एक साल की MCLR 0.10 प्रतिशत घटाकर 7.75 प्रतिशत कर दी है जो पहले 7.85 प्रतिशत थी. एक दिन की अवधि और एक महीने के लिए एमसीएलआर 0.15 प्रतिशत घटाकर 7.45 प्रतिशत कर दी गयी है. 

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम बोले- येस बैंक को संकट से उभारने की SBI की योजना "विचित्र"

तीन माह अ‍वधि के लिए MCLR को 7.65 प्रतिशत से घटाकर 7.50 प्रतिशत कर दिया गया है. इसी तरह दो साल और तीन साल के MCLR को 0.10 प्रतिशत घटाकर क्रमश: 7.95 प्रतिशत और 8.05 प्रतिशत कर दिया गया है. नई दरें 10 मार्च से प्रभाव में आएंगी. इससे पहले सोमवार को यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने 11 मार्च से अपने MCLR में 0.10 प्रतिशत की कमी करने की घोषणा की थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: यस बैंक संकट का कारोबार पर असर, पेट्रोल पंप डीलर्स को हो रही है परेशानी