NDTV Khabar

एसबीआई में खुलते हैं चार ऐसे खाते, जिनमें न्यूनतम बैलेंस नहीं रखने पर कोई जुर्माना नहीं लगता

यह चार खाते हैं - छोटी बचत बैंक खाता, बेसिक सेविंग्स बैंक खाता, कॉरपोरेट सैलरी खाता तथा जन-धन खाता, जो केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री जन-धन योजना (PMJDY) के तहत खोला जाता है.

1Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एसबीआई में खुलते हैं चार ऐसे खाते, जिनमें न्यूनतम बैलेंस नहीं रखने पर कोई जुर्माना नहीं लगता

एसबीआई में कम से कम चार इस तरह के खाते खोले जाते हैं, जिनमें ग्राहक को 'औसत मासिक बैलेंस' बनाए रखने की अनिवार्यता नहीं होती...

खास बातें

  1. SBI के चार प्रकार के बचत खातों में मिनिमम बैलेंस की अनिवार्यता नहीं होती
  2. तीन खाते हैं: छोटी बचत खाता, बेसिक सेविंग्स खाता व कॉरपोरेट सैलरी खाता
  3. चौथी प्रकार का खाता जन-धन खाता है, जो PMJDY के तहत खोला जाता है
नई दिल्ली: क्या हमारे देश के सबसे बैंक - स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, यानी एसबीआई - में आपने खाता खुलवा रखा है - अगर इस सवाल का जवाब 'हां' में है, तो आपको जानकारी होनी चाहिए कि देशभर में काम कर रहे बहुत-से बैंकों की तरह एसबीआई में खोले गए खातों में आपको प्रत्येक माह न्यूनतम बैलेंस रखना होता है, जिसके न रहने पर आपको जुर्माना अदा करना पड़ सकता है. लेकिन एसबीआई की ओर से कुछ ऐसे खाते भी खुलवाए जाते हैं, जिनमें यह बंधन नहीं होता. इसका अर्थ यह हुआ कि आप अपने खाते में मौजूद राशि में से कितनी भी राशि निकालकर खर्च कर सकते हैं, और इस बात की चिंता करने की ज़रूरत नहीं होती कि न्यूनतम बैलेंस बचा है या नहीं. इसी महीने संचालन के 62 साल पूरे करने वाले एसबीआई में कम से कम चार इस तरह के खाते हैं, जिनमें ग्राहक को 'औसत मासिक बैलेंस' बनाए रखने की अनिवार्यता नहीं होती है.
 
यह चार खाते हैं - छोटी बचत बैंक खाता (small savings bank account), बेसिक सेविंग्स बैंक खाता (basic savings bank account), कॉरपोरेट सैलरी खाता (corporate salary account) तथा जन-धन खाता, जो केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री जन-धन योजना (PMJDY) के तहत खोला जाता है.

वीडियो


जन-धन खातों के अतिरिक्त एसबीआई की ओर से पेश किए जाने वाले शेष तीनों प्रकार के खातों के बारे में ज़रूरी जानकारी हम आपको दे रहे हैं...

छोटी बचत बैंक खाता (small savings bank account)
एसबीआई के छोटी बचत बैंक खाते में अधिकतम बैलेंस को 50,000 रुपये तक सीमित किया गया है, तथा इसमें जमा राशि पर नही ब्याज दिया जाता है, जो बचत खातों में मिलता है. खाताधारकों को एटीएम-कम-डेबिट कार्ड दिया जाता है, जिसके लिए एसबीआई की वेबसाइट के अनुसार कोई शुल्क नहीं लिया जाता, और उसके लिए वार्षिक मेन्टेनेन्स शुल्क भी नहीं लिया जाता. एक वित्तवर्ष में इसमें जमा कराई गई कुल राशि 1,00,000 रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए, और कुल निकासी तथा ट्रांसफर की रकम 10,000 रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए.

बेसिक सेविंग्स बैंक खाता (basic savings bank account)
एसबीआई के बेसिक सेविंग्स बैंक खाते में न्यूनतम तथा अधिकतम राशि की कोई सीमा नहीं है, लेकिन इस खाते के धारक 'किसी भी अन्य तरह का कोई अन्य बचत खाता नहीं खोल सकते...' इस तरह का कोई भी अन्य बचत खाता - यदि कोई है - बेसिक सेविंग्स बैंक खाता खोले जाने के 30 दिन के भीतर बंद करना होगा.

कॉरपोरेट सैलरी खाता (corporate salary account)
एसबीआई के कॉरपोरेट सैलरी खाते में कर्मचारी तथा नियोक्ता को कई प्रकार के फायदे दिए जाते हैं. इस तरह के खाते से नियोक्ता के लिए काफी काग़ज़ी कार्यवाही तथा वेतन प्रबंधन के खर्चे कम हो जाते हैं. एसबीआई की वेबसाइट के अनुसार, इस तरह खाताधारक कर्मचारियों को बैंक की अन्य सुविधाओं के साथ-साथ इंटरनेट बैंकिंग तथा मोबाइल बैंकिंग की सुविधा मुफ्त मिलती है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement