NDTV Khabar

नया नहीं है नोट वापस लेने का फैसला, आरबीआई चला चुका है 5000 और 10000 रुपये के नोट...

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नया नहीं है नोट वापस लेने का फैसला, आरबीआई चला चुका है 5000 और 10000 रुपये के नोट...

खास बातें

  1. जनवरी 1946 में और फिर 1978 में 1,000 रुपये के नोट वापस लिए गए थे
  2. रिजर्व बैंक ने 1938 और फिर 1954 में 10,000 रुपये का छापा था
  3. इन सभी नोटों को जनवरी 1978 में वापस ले लिया गया
नई दिल्ली:

अर्थव्यवस्था में चलन से 500 और 1,000 रुपये के नोट को अचानक वापस लेने का सरकार फैसला अब तक का एकमात्र नया फैसला नहीं है. इससे पहले भी जनवरी 1946 में और फिर 1978 में 1,000 रुपये और इससे बड़ी राशि के नोटों को वापस लिया जा चुका है.

रिजर्व बैंक ने अब तक सबसे बड़ा नोट 1938 और फिर 1954 में 10,000 रुपये का छापा था. लेकिन इन नोटों को पहले जनवरी 1946 में और फिर जनवरी 1978 में वापस ले लिया गया. रिजर्व बैंक के आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है.

जनवरी 1946 से पहले 1,000 और 10,000 रुपये के बैंक नोट प्रचलन में थे. इसके बाद 1954 में 1,000 रुपये, 5,000 रुपये और 10,000 रुपये के बैंक नोट जारी किए गए. इन सभी को जनवरी 1978 में वापस ले लिया गया.

नवंबर 2000 में एक हजार रुपये का नोट फिर जारी हुआ. इससे पहले अक्तूबर 1987 में 500 रुपये का नोट चलन में लाया गया. तब महंगाई के मद्देनजर चलन में भारी संख्या में जारी नोटों को नियंत्रित करने के लिए इसे जारी करने को उचित ठहराया गया. देश के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा जब 2,000 रुपये का नोट चलन में लाया जाएगा.

टिप्पणियां

 


(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement