सातवें वेतन आयोग के हिसाब से वेतन नहीं बढ़ने से नाराज ये कर्मचारी, गए हड़ताल पर

सातवें वेतन आयोग के लागू नहीं करने के विरोध में 22 मई को शुरू हुई देशव्यापी हड़ताल के प्रदर्शनकारियों के एक धड़े का अनुबंध अखिल भारतीय ग्रामीण डाक सेवक संघ (एआईजीडीएसयू) से है.

सातवें वेतन आयोग के हिसाब से वेतन नहीं बढ़ने से नाराज ये कर्मचारी, गए हड़ताल पर

सातवां वेतन आयोग की रिपोर्ट लागू होने से सरकारी कर्मचारियों के वेतन में वृद्धि हुई है.

खास बातें

  • सातवां वेतन आयोग से कर्मचारियों को लाभ हुआ
  • कई विभागों में नहीं मिला लाभ
  • मांग को लेकर डाक सेवक हड़ताल पर
नई दिल्ली:

सातवें वेतन आयोग (7th Pay Commission) -ग्रामीण डाक सेवकों द्वारा लगातार नौवें दिन बुधवार को हड़ताल जारी रखे जाने से देशभर के ग्रामीण क्षेत्रों में डाक सेवाएं बंद रहीं. सातवें वेतन आयोग के लागू नहीं करने के विरोध में 22 मई को शुरू हुई देशव्यापी हड़ताल के प्रदर्शनकारियों के एक धड़े का अनुबंध अखिल भारतीय ग्रामीण डाक सेवक संघ (एआईजीडीएसयू) से है.

देश भर में लगभग तीन लाख डाक सेवक हैं जो ग्रामीण डाक घरों में डाक पहुंचाने का काम करते हैं.

पढ़ें- सरकारी कर्मचारियों के लिए खुशखबरी : अब यहां भी लागू हुआ 7वें वेतन आयोग

वे उस प्रणाली का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं जिसमें महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) के श्रमिकों को मजदूरी दी जाती है.

पढ़ें- 2019 चुनाव से पहले केंद्रीय कर्मचारियों को खुश करने के लिए सरकार उठा सकती है ये कदम

एआईजीडीएसयू के महासचिव एसएस महादेवय्या ने कहा, "ग्रामीण क्षेत्रों में संपूर्ण डाक सेवा हम पर निर्भर है जिसमें मनरेगा का भुगतान भी शामिल है. हम मैदानी क्षेत्रों ही नहीं, दूरस्थ और जनजातीय क्षेत्रों में भी काम करते हैं."

पढ़ें- सातवां वेतन आयोग : सरकार की ओर से न्यूनतम वेतनमान पर संसद में दिया गया यह बयान

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने कहा, "हम कोई काम नहीं करेंगे और विरोध प्रदर्शन करेंगे. जनता हमारा समर्थन कर रही है और वह हमारे मुद्दे समझती है." संघ के नेता ने जोर देते हुए कहा कि वे अपनी मांगे पूरी होने तक हड़ताल जारी रखेंगे.