NDTV Khabar

सातवां वेतन आयोग का लाभ यहां कुछ इस तरह भी हुआ...

पिछले कुछ समय में अर्थव्यवस्था में आई तेजी के कारणों में एक कारण सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के हिसाब से लागू किया गया वेतनमान भी है. इससे केंद्रीय कर्मचारियों को काफी लाभ हुआ. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सातवां वेतन आयोग का लाभ यहां कुछ इस तरह भी हुआ...

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. सातवां वेतन आयोग से कर्मचारियों को लाभ हुआ
  2. अर्थव्यवस्था को भी लाभ हुआ
  3. इसका असर अब दिखाई दे रहा.
नई दिल्ली: केंद्र सरकार के एक करोड़ से अधिक कर्मचारियों व पेंशनधारकों के वेतन-भत्तों व पेंशन में सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के आधार पर बढ़ोतरी करने के फैसले का घरेलू अर्थव्यवस्था पर अच्छा असर पड़ा, ऐसा दावा किया जा रहा है. पिछले कुछ समय में अर्थव्यवस्था में आई तेजी के कारणों में एक कारण सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के हिसाब से लागू किया गया वेतनमान भी है. इससे केंद्रीय कर्मचारियों को काफी लाभ हुआ. 

अर्थव्यवस्था के जानकारों का कहना है कि देश में संगठित  क्षेत्र के कर्मियों के वेतनमान में वृद्धि से मांग बढ़ी और इसका असर पूरी अर्थव्यवस्था पर देखने को मिल रहा है. करीब 50 लाख केंद्रीय कर्मी और करीब इतने ही पेंशनधारियों के हाथ में ज्यादा कैश आने से मांग बढ़ी और लोगों के साथ साथ देश की अर्थव्यवस्था को भी इसका लाभ हुआ है. 

पढ़े- 2019 चुनाव से पहले केंद्रीय कर्मचारियों को खुश करने के लिए सरकार उठा सकती है ये कदम

जानकारों का कहना है कि इससे उपभोग मांग बढ़ी है. इससे मुद्रास्फीति का दबाव बढ़ने की आशंका थी जो थोड़ा बहुत जमीनी स्तर पर देखने को मिला भी. 

पढ़ें- सरकारी कर्मचारियों के लिए खुशखबरी : अब यहां भी लागू हुआ 7वें वेतन आयोग

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में 28 जून 2016 को वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई थी. आयोग ने वेतन-भत्तों में कुल मिलाकर 23.5 प्रतिशत की वृद्धि की सिफारिश की थी.

पढ़ें- लाखों सरकारी कर्मचारियों की बल्ले-बल्ले, इस राज्य के कर्मियों को मिलेगा सातवें वेतन आयोग का एरियर

वेतन आयोग की रिपोर्ट का असर राज्यों में सरकारों के अधीन काम करने वालों सभी कर्मचारियों पर भी पड़ा. हर राज्य पर इस आयोग की रिपोर्ट को लागू करने का दबाव बना और कई राज्य अभी तक अपने अपने कर्मचारियों का वेतन आयोग की रिपोर्ट के हिसाब से बढ़ाते जा रहे हैं. कुछ राज्य अभी इस प्रक्रिया में हैं. जानकारों का कहना है कि करीब तीन करोड़ लोग इस आयोग की रिपोर्ट से सीधे तौर पर प्रभावित हुए.

पढ़ें- सातवें वेतन आयोग के हिसाब से वेतन नहीं बढ़ने से नाराज ये कर्मचारी, गए हड़ताल पर

टिप्पणियां
आर्थिक मामलों के जानकारों का दावा है और जमीन पर देखने को भी मिल रहा है कि रिपोर्ट में जिस तरह आवासीय भत्ता को बढ़ाने की बात कही गई थी उससे बड़े शहरों से लेकर छोटे शहरों तक में किराए में वृद्धि हो गई है.


पिछले वेतन आयोग की रिपोर्ट के बाद ऐसा होता रहा है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement