NDTV Khabar

अमेरिकी बाजार की स्थिरता का असर भारतीय शेयर बाजार पर, हरे निशान के साथ खुले बाजार

बताया जा रहा है कि अमेरिकी बाजार में स्थिरता के चलते भारत में भी शेयर बाजार मजबूत दिखाई दे रहे हैं. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अमेरिकी बाजार की स्थिरता का असर भारतीय शेयर बाजार पर, हरे निशान के साथ खुले बाजार

शेयर बाजार.

मुंबई :

बुधवार को धातु, ऊर्जा कंपनियों के शेयरों में गिरावट के बाद गुरुवार को शेयर बाजार में हरियाली देखने को मिली. सुबह करीब 9.20 बजे सेंसेक्स 120 अंक ऊपर 34465 पर कारोबार कर रहा था जबकि निफ्टी में 36 अंक की तेजी रही और निफ्टी 10466 पर कारोबार कर रहा था. ऑटो मेटल एफएमसीजी को छोड़कर बाकी सभी कैटेगरी के शेयर हरे में कारोबार करते दिखे. बताया जा रहा है कि अमेरिकी बाजार में स्थिरता के चलते भारत में भी शेयर बाजार मजबूत दिखाई दे रहे हैं. 

बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स बुधवार को 306 अंक गिरकर 34,344.91 अंक पर बंद हुआ था जो पिछले एक महीने का निचला स्तर है. ईंधन की बढ़ती कीमतें और भू-राजनैतिक चिंताओं के बढ़ने से निवेशकों ने सुरक्षित निकासी के चलते जोरदार बिकवाली की जिसका असर बाजार पर दिखा. बुधवार की गिरावट की प्रमुख वजह धातु और तेल कंपनियों के शेयरों में जोरदार बिकवाली होना रहा. 

पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों के बोझ को बांटने के लिए सरकार की ओर से कहे जाने की संभावना के बीच सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियां हिंदुस्तान पेट्रोलियम, भारत पेट्रोलियम, इंडियन ऑयल, ओएनजीसी और ऑयल इंडिया लिमिटेड के शेयरों में बिकवाली का रुख देखा गया.


वहीं धातु कंपनियों के शेयरों के लिए यह सबसे खराब प्रदर्शन का सत्र रहा. वेदांता के शेयर में 6.23% गिरावट दर्ज की गई. कंपनी के तूतीकोरन तांबा संयंत्र के बाहर विरोध प्रदर्शन और पुलिस फायरिंग में नौ लोगों की जान जाने की घटना इसकी मुख्य वजह रही. 

वहीं वैश्विक स्तर पर अमेरिका-चीन के बीच व्यापार मुद्दों पर जारी तनाव और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की उत्तर कोरिया के साथ प्रस्तावित शिखर वार्ता पर मंडराते आशंका के बादलों ने वैश्विक रुझानों को प्रभावित किया. इसका असर भी घरेलू बाजार पर दिखा.

बंबई शेयर बाजार का 30 कंपनियों के शेयरों पर आधारित सेंसेक्स 306.33 अंक यानी 0.88% गिरकर 34,344.91 अंक पर बंद हुआ. हालांकि इसकी शुरुआत काफी बेहतर रही यह 34,656.63 अंक पर खुला और दिन में कारोबार के समय 34,668.47 अंक तक पहुंच गया था.

सेंसेक्स का 19 अप्रैल के बाद यह सबसे निचला स्तर है, तब यह 34,427.29 अंक के निचले स्तर पर बंद हुआ था.

इसी प्रकार 50-कंपनियों के शेयरों पर आधारित नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 106.35 अंक यानी 1.01% घटकर 10,430.35 अंक पर बंद हुआ था. दिन में कारोबार के दौरान यह 10.417.80 से 10,533.55 अंक के दायरे में रहा था. 

टिप्पणियां

हालांकि, आरंभिक आंकड़ों के अनुसार मंगलवार को विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने 1,651.63 करोड़ रुपये के शेयर बेचे जबकि घरेलू सांस्थानिक निवेशकों ने 1,496.83 करोड़ रुपये के शेयरों की खरीद की. जियोजित फाइनेंशियल सर्विस के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि विश्व व्यापार वार्ताओं को लेकर बनी निराशा और चौथी तिमाही के परिणाम अपेक्षानुरुप नहीं रहने से बाजार धारणा प्रभावित हुई. इसके अलावा रुपये में जारी गिरावट ने भी इस पर असर डाला. 

सेंसेक्स पर सबसे ज्यादा नुकसान में टाटा स्टील रही जिसका शेयर 6.57% गिरा , वहीं ओएनजीसी के शेयर में 4.75% की गिरावट देखी गई थी. इसी प्रकार इंडसइंड बैंक के शेयर में 2.80%, आईटीसी में 1.92%, अडाणी पोर्ट में 1.80%, रिलायंस इंडस्ट्रीज में 1.58%, एचडीएफसी लिमिटेड में 1.43%, भारती एयरटेल में 1.41%, बजाज ऑटो में 1.26%, एचडीएफसी बैंक में 1.22%, कोटक बैंक में 1.14%, कोल इंडिया में 0.95%, हीरो मोटोकॉर्प में 0.78%, इंफोसिस में 0.70%, मारुति सुजुकी में 0.68%, विप्रो में 0.68%, हिंदुस्तान युनिलीवर में 0.66%, एक्सिस बैंक में 0.56%, एशियन पेंट्स में 0.55%, टीसीएस में 0.31%, सन फार्मा में 0.23% और यस बैंक में 0.06% की गिरावट देखी गई थी. हालांकि भारतीय स्टेट बैंक का शेयर कल सबसे बेहतर रहा और इसमें 3.56% की बढ़त दर्ज की गई. इसके अलावा एनपीटीसी का शेयर 0.82%, एलएंडटी का 0.55%, टाटा मोटर्स का 0.49% और महिंद्रा एंड महिंद्रा का 0.05% चढ़ा. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement