स्‍पाइस जेट ने जेट एयरवेज के 100 से ज्‍यादा पायलटों और केबिन क्रू को दी नौकरी : रिपोर्ट

वेतन मिलने में हुई देरी और नौकरियां जाने के खतरे से परेशान जेट एयरवेज के सैकड़ों कर्मचारी गुरुवार को जंतर-मंतर पर इकट्ठा हुए और उन्होंने सरकार से मसले में हस्तक्षेप करने की अपील की.

स्‍पाइस जेट ने जेट एयरवेज के 100 से ज्‍यादा पायलटों और केबिन क्रू को दी नौकरी : रिपोर्ट

नई दिल्‍ली:

संकट से जूझ रहे जेट एयरवेज (Jet Airways) जिसने फिलहाल अपनी तमाम उड़ाने रोक रखी हैं, उसकी प्रतिद्वंद्वी स्‍पाइस जेट (SpiceJet) ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर कहा वह पायलट, केबिन क्रू, टेक्निकल स्‍टाप और एयरपोर्ट स्टाफ की भर्ती कर रहा है. स्‍पाइस जेट (SpiceJet) के हवाले से न्‍यूज एजेंसी ANI ने ट्वीट किया, जेट एयरवेज (Jet Airways) के बंद होने से जिन लोगों की नौकरी चली गई है हम उन लोगों को प्राथमिकता दे रहे हैं और अपनी कंपनी का विस्‍तार कर रहे हैं. हमलोगों ने 100 से ज्‍यादा पायलटों, 200 से ज्‍यादा केबिन क्रू, और 200 से ज्‍यादा टेक्‍नि‍कल और एयरपोर्ट स्‍टाफ को नौकरी दे चुके हैं. जो भी बेहतर होगा हमलोग और करेंगे. अपने विमानों की संख्‍या जल्‍द ही बढ़ाने वाले हैं. स्‍पाइस जेट वो सभी प्रयास कर रही है जिससे यात्रियों को कम से कम परेशानी का सामना करना पड़े. खासकर इस व्‍यस्‍त सीजन में उन्‍हें सहूलियत मिल सके.


इससे पहले एयर इंडिया ने जेट एयरवेज के 5 बड़े विमानों को पट्टे पर लेने की बात की है. साथ ही एयर हॉस्‍टेस को भी अपने यहां रखने की बात की गई. बताया जा रहा है कि अभी तक 150 से ज्‍यादा एयर होस्‍टेस को एयर इंडिया ने नौकरी का ऑफर किया है.

जेट एयरवेज की आर्थिक स्‍थ‍िति काफी दायनीय है. इसके संस्‍थापक निदेशक नरेश गोयल निदेशक बोर्ड से अलग हो चुके हैं. नये निवेशकों की तलाश की जा रही है. लेकिन पैसे की कमी के कारण फिलहाल जेट एयरवेज का परिचालन पूरे तरीके से बंद हो गया है. जेट एयरवेज से तकरीबन 20 हजार लोग जुड़े हुए थे.

वेतन मिलने में हुई देरी और नौकरियां जाने के खतरे से परेशान जेट एयरवेज के सैकड़ों कर्मचारी गुरुवार को जंतर-मंतर पर इकट्ठा हुए और उन्होंने एयरलाइन को दोबारा चालू करने को लेकर सरकार से मसले में हस्तक्षेप करने की अपील की. इंजीनियरिंग, मेंटेनेंस, गेस्ट रिलेशंस और सिक्युरिटी समेत विभिन्न विभागों के कर्मचारियों ने प्रदर्शन में हिस्सा लिया. जेट एयरवेज ने बु़धवार को देर रात अपनी सारी उड़ानें अनिश्चितकाल के लिए रद्द कर दीं.
एयरलाइन के दोबारा चालू होने की उम्मीद कंपनी के शेयरों की बिक्री पर आधारित है. बिक्री प्रक्रिया की पहल भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की अगुवाई में कर्जदाताओं के समूह द्वारा की गई है.

आधिकारिक बयान के अनुसार, एसबीआई की अगुवाई में कर्जदाताओं ने कहा है कि उनको शेयरों की बिक्री की प्रक्रिया के सफल होने की उम्मीद है. उद्योग सूत्रों के अनुसार, जेट एयरवेज के शेयर खरीदने की दौड़ में प्राइवेट इक्विटी फर्म टीपीजी कैपिटल, इंडिगो पार्टनर्स और एनआईआईएफ व एतिहाद एयरवेज शामिल हैं.

VIDEO: जेट एयरवेज ने सारे ऑपरेशन रोके

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com