लॉजिस्टिक्स क्षेत्र में अगले चार साल में होगा 30 लाख नई नौकरियों का सृजन : रिपोर्ट

टीमलीज की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के क्रियान्वयन और बुनियादी ढांचे में निवेश की वजह से इस क्षेत्र में नौकरियां बढ़ेंगी.

लॉजिस्टिक्स क्षेत्र में अगले चार साल में होगा 30 लाख नई नौकरियों का सृजन : रिपोर्ट

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

देश के लॉजिस्टिक्स क्षेत्र में अगले चार साल में 30 लाख नयी नौकरियों का सृजन होगा. टीमलीज की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के क्रियान्वयन और बुनियादी ढांचे में निवेश की वजह से इस क्षेत्र में नौकरियां बढ़ेंगी. टीमलीज की रिपोर्ट ‘भारतीय लॉजिस्टिक्स क्रांति - बड़ा दांव, बड़ी नौकरियों’ में कहा गया है कि सात उप क्षेत्रों सड़क ढुलाई, रेल ढुलाई, भंडारण, जलमार्ग, विमान ढुलाई, पैकेजिंग और कूरियर सेवाओं में 30 लाख नई नौकरियां पैदा होंगी. इससे 2022 तक इस क्षेत्र में रोजगार का आंकड़ा बढ़कर 1.39 करोड़ पर पहुंच जाएगा, जो अभी 1.09 करोड़ है.’

यह भी पढ़ें : पेट्रोलियम उत्पादों से मिलने वाले टैक्स से होते हैं विकास कार्य : रविशंकर प्रसाद

रिपोर्ट में कहा गया है कि सड़क ढुलाई क्षेत्र में 18.9 लाख अतिरिक्त रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे. वहीं रेल ढुलाई उपक्षेत्र में 40,000, विमान ढुलाई क्षेत्र में 4,00,000 अतिरिक्त रोजगार और जलमार्ग क्षेत्र में 4,50,000 अतिरिक्त रोजगार के अवसर सुलभ होंगे. रिपोर्ट में कहा गया है कि इस क्षेत्र की वृद्धि में प्रमुख भूमिका छह लाख करोड़ रुपये के सार्वजनिक निवेश, 2017 में क्षेत्र को दिया गया बुनियादी ढांचा क्षेत्र का दर्जा और जीएसटी क्रियान्वयन की होगी. रिपोर्ट कहती है कि सड़क ढुलाई क्षेत्र में सबसे अधिक रोजगार के अवसर मुंबई , दिल्ली - एनसीआर और अहमदाबाद में उपलब्ध होंगे. वहीं इलाहाबाद , अहमदाबाद , चेन्नई और गुवाहाटी में सबसे अधिक जलमार्ग क्षेत्र में रोजगार के अवसर मिलेंगे.

Newsbeep

VIDEO : स्वर्ण मंदिर के लंगर पर GST का विरोध​

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)