NDTV Khabar

जीएसटी में टीवी, एसी, वॉशिंग मशीन महंगे होंगे, स्मार्टफोन होगा सस्ता

जीएसटी परिषद द्वारा करीब 1,200 वस्तुओं और 500 सेवाओं की दरों को अंतिम रूप दिया गया है. इनके विश्लेषण से पता चलता है कि साबुन और दंतमंजन जैसे रोजमर्रा के उत्पाद जीएसटी में सस्ते हो जाएंगे.

15 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
जीएसटी में टीवी, एसी, वॉशिंग मशीन महंगे होंगे, स्मार्टफोन होगा सस्ता

जीएसटी लागू होने के बाद एयर कंडीनशनर जैसे उत्पाद महंगे हो जाएंगे

खास बातें

  1. साबुन और दंतमंजन जैसे रोजमर्रा के उत्पाद जीएसटी में सस्ते हो जाएंगे
  2. जीएसटी में मोटरसाइकिलें, इलेक्ट्रिक दोपहिया और तिपहिया वाहन सस्ते होंगे
  3. पांच सितारा होटलों पर टैक्स बढ़ेगा, गैर-एसी रेस्तरां पर टैक्स घटेगा
नई दिल्ली: वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) व्यवस्था में टीवी, एसी, वॉशिंग मशीन, रेफ्रिजरेटर और एरेटेड ड्रिंक्स जैसे उत्पाद महंगे होंगे, जबकि स्मार्टफोन, छोटी कारें तथा रोजमर्रा के इस्तेमाल के उत्पाद सस्ते होंगे. जीएसटी को 1 जुलाई से लागू करने की योजना है. जीएसटी परिषद द्वारा करीब 1,200 वस्तुओं और 500 सेवाओं की दरों को अंतिम रूप दिया गया है. इनके विश्लेषण से पता चलता है कि साबुन और दंतमंजन जैसे रोजमर्रा के उत्पाद जीएसटी में सस्ते हो जाएंगे. वहीं ताजा फल, सब्जियां, दालें, ब्रेड और दूध को किसी भी टैक्स से छूट दी गई है.

इसमें इकनॉमी श्रेणी में विमान यात्रा कुछ सस्ती हो जाएगी. इसी तरह टैक्सी सेवाएं भी सस्ती होंगी. जीएसटी में इन पर पांच प्रतिशत कर लगेगा, जबकि अभी तक इन पर छह प्रतिशत कर लगता है. जीएसटी में खाद्यान्न भी सस्ता हो सकता है. इन्हें शून्य दर वाली जिंसों की श्रेणी में रखा गया है. अभी कुछ राज्य खाद्यान्न पर दो से पांच प्रतिशत का खरीद कर लगाते हैं जो जीएसटी में समाप्त हो जाएगा. जीएसटी परिषद ने इसी महीने 1,200 वस्तुओं ओर 500 सेवाओं को 5,12, 18 और 28 प्रतिशत की चार कर स्लैब में रखा है.

कुछ जिंसों मसलन प्रसंस्कृत खाद्य, कनफेक्शनरी उत्पाद और आइसक्रीम पर कर की दर 22 प्रतिशत से घटकर 18 प्रतिशत पर आ जाएगी, वहीं शैंपू, परफ्यूम और मेक अप उत्पादों के लिए कर की दर मौजूदा 22 प्रतिशत से बढ़कर 28 प्रतिशत हो जाएगी.

हालांकि, रीयल एस्टेट क्षेत्र को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है, लेकिन निर्माणाधीन संपत्तियों पर 12 प्रतिशत की दर से कर लगेगा. अभी इस पर 15 प्रतिशत सेवा कर लगता है. जीएसटी में मोटरसाइकिलें भी कुछ सस्ती हो सकती हैं. इन पर कर की दर करीब एक प्रतिशत कम होकर 28 प्रतिशत रह जाएगी. इलेक्ट्रिक दोपहिया और तिपहिया वाहनों पर कर की दर 14 से घटकर 12 प्रतिशत रह जाएगी.

सौर पैनलों पर कर में भारी बढ़ोतरी होगी. यह अभी शून्य से पांच प्रतिशत है जो कि जीएसटी में 18 प्रतिशत हो जाएगी. साबुन और टूथपेस्ट पर कर की दर जीएसटी में 25-26 से 18 प्रतिशत पर आ जाएगी. जीएसटी में पैक सीमेंट सस्ता होगा. इस पर कर की दर घटकर 28 प्रतिशत रह जाएगी, जो अभी 31 प्रतिशत बैठती है.

जीएसटी में आयुर्वेदिक दवाओं सहित दवाओं पर कर की दर 13 से घटकर 12 प्रतिशत पर आ जाएगी. स्मार्टफोन भी जीएसटी में सस्ता हो जाएगा. इन पर अभी कर का प्रभाव 13.5 प्रतिशत है. जीएसटी में इन पर 12 प्रतिशत कर लगाने का प्रस्ताव है.

इसके अलावा पूजा के सामान, हवन में इस्तेमाल होने वाली सामग्री, बीड़ी और कुमकुम को कर मुक्तता की श्रेणी में रखा गया है. मनोरंजन, केबल और डीटीएच सेवाओं पर कर की दर कम होगीं. राज्यों द्वारा लगाया जाने वाला मनोरंजन कर जीएसटी में समाहित हो जाएगा और इस पर प्रभावी कर की दर 18 प्रतिशत होगी. फिलहाल इन सेवाओं पर राज्यों में 10 से 30 प्रतिशत का मनोरंजन कर लगता है. साथ ही 15 प्रतिशत का सेवा कर भी लगता है.

जीएसटी व्यवस्था में पांच सितारा होटलों पर कर का बोझ बढ़ेगा, जबकि गैर एसी रेस्तरां पर कर घटेगा. फिलहाल नॉन एसी रेस्तरां पर 12.5 से 20 प्रतिशत का राज्य वैट लगता है. वहीं एसी रेस्तरांओं पर राज्य वैट के अलावा छह प्रतिशत का सेवा कर लगता है.

जीएसटी व्यवस्था में नॉन एसी और बिना शराब लाइसेंस वाले रेस्तरांओं पर 12 प्रतिशत की दर से कर लगेगा. वहीं एसी और शराब लाइसेंस वाले रेस्तरांओं पर 18 प्रतिशत कर लगेगा. पांच सितारा या उससे अधिक के रेस्तरांओं पर 28 प्रतिशत कर लगेगा.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement