NDTV Khabar

शेयर बाजार : नकारात्मक वैश्विक संकेतों से आई गिरावट

आर्थिक मोर्चे पर, देश के सेवा क्षेत्र में अप्रैल में तेजी जारी रही और निक्केई इंडिया सर्विसेज बिजनेस एक्टिविटी इंडेक्स अप्रैल में बढ़कर 51.4 पर रहा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शेयर बाजार : नकारात्मक वैश्विक संकेतों से आई गिरावट

प्रतीकात्मक फोटो

मुंबई: बीते सप्ताह वैश्विक बाजारों में आई गिरावट के असर से भारतीय शेयर बाजार भी गिरावट के साथ बंद हुए. साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स 54.32 अंकों या 0.16 फीसदी की गिरावट के साथ 34,915.38 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 74.05 अंकों या 0.69 फीसदी की गिरावट के साथ 10.618.25 पर बंद हुआ. बीएसई का मिडकैप सूचकांक 356.17 अंकों या 2.11 फीसदी की गिरावट के साथ 16,561.01 पर बंद हुआ, जबकि स्मॉलकैप सूचकांक 248.51 अंकों या 1.36 फीसदी की गिरावट के साथ 17,991.45 पर बंद हुआ.  सोमवार को शेयर बाजारों की सकारात्मक शुरुआत हुई और सेंसेक्स 190.66 अंकों या 0.55 फीसदी की तेजी के साथ 35,160.36 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 47.05 अंकों या 0.44 फीसदी की तेजी के साथ 10,739.35 पर बंद हुआ. मंगलवार को महाराष्ट्र दिवस के कारण शेयर बाजार बंद रहे. बुधवार को शेयर बाजार में मिला-जुला रुख रहा और सेंसेक्स 16.06 अंकों या 0.05 फीसदी की तेजी के साथ 35,176.42 पर तथा निफ्टी 21.30 अंकों या 0.20 फीसदी की गिरावट के साथ 10,718.05 पर बंद हुआ.

शेयर बाजार में रहा बिकवाली का दौर, सेंसेक्स 35 हजार के नीचे बंद

गुरुवार को सेंसेक्स 73.28 अंकों या 0.21 फीसदी की गिरावट के साथ 35,103.14 पर तथा निफ्टी 38.40 अंकों या 0.36 फीसदी की गिरावट के साथ 10,679.65 पर बंद हुए. शुक्रवार को बाजार में तेज गिरावट रही और सेंसेक्स 187.76 अंकों या 0.53 फीसदी की गिरावट के साथ 34,915.38 पर बंद हुआ. वहीं, निफ्टी 61.40 अंकों या 0.57 फीसदी की गिरावट के साथ 10,618.25 पर बंद हुआ. बीते सप्ताह सेंसेक्स के तेजी वाले शेयरों में प्रमुख रहे - कोटक महिंद्रा बैंक (3.62 फीसदी), एचडीएफसी बैंक (3.14 फीसदी), इंडसइंड बैंक (0.15 फीसदी), और टीसीएस (0.75 फीसदी). सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे - स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (0.29 फीसदी), आईसीआईसीआई बैंक (1.79 फीसदी), एक्सिस बैंक (3.45 फीसदी), इंफोसिस (1.03 फीसदी), विप्रो (1.89 फीसदी) और ओएनजीसी (0.25 फीसदी). 

शेयर बाजार : वैश्विक असर के चलते सेंसेक्स और निफ्टी लाल निशान के साथ खुले

आर्थिक मोर्चे पर, देश के सेवा क्षेत्र में अप्रैल में तेजी जारी रही और निक्केई इंडिया सर्विसेज बिजनेस एक्टिविटी इंडेक्स अप्रैल में बढ़कर 51.4 पर रहा, जबकि मार्च में यह 50.3 था. इस सूचकांक में 50 से कम मंदी का और 50 से ऊपर तेजी का सूचक है. वहीं, फैक्टरी उत्पादन में भी तेजी रही और निक्केई मैनुफैक्चरिंग मैनेजर्स इंडेक्स अप्रैल में 51.6 पर रहा, जो मार्च में 51 पर था.

टिप्पणियां
 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement