नोटबंदी और जीएसटी को लेकर RBI के इस पूर्व गवर्नर ने दिया यह बड़ा बयान

आरबीआई के पूर्व गवर्नर वाईवी रेड्डी ने अर्थव्यवस्था को नोटबंदी और जीएसटी जैसे कदमों से लगे झटके को देखते हुए कहा है कि इस स्थिति से पूरी तरह उबरने के लिए दो साल के समय की और जरूरत है.

नोटबंदी और जीएसटी को लेकर RBI के इस पूर्व गवर्नर ने दिया यह बड़ा बयान

RBI के पूर्व गवर्नर वाईवी रेड्डी ने कहा, नोटबंदी और जीएसटी के झटके से पूरी तरह उबरने में लगेंगे और दो साल (फाइल फोटो)

मुंबई:

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) पूर्व गवर्नर वाईवी रेड्डी ने अर्थव्यवस्था को नोटबंदी और जीएसटी जैसे कदमों से लगे झटके को देखते हुए कहा है कि अर्थव्यवस्था को इस स्थिति से पूरी तरह उबरने और उच्च वृद्धि के रास्ते पर आगे बढ़ने के लिए दो साल के समय की और जरूरत है. उन्होंने कहा कि यह एक झटका है जिसकी नकारात्मक धारणा के साथ शुरुआत हुई है. इसमें कुछ सुधार आ सकता है और उसके बाद कुछ फायदा मिल सकता है. फिलहाल इस समय इसमें परेशानी है और लाभ बाद में आएगा. कितना फायदा होगा और कितने अंतराल के बाद यह होगा, यह देखने की बात है.

यह भी पढ़ें : अर्थव्यवस्था के लिए मांग, निजी उपभोग और एक्सपोर्ट में आई कमी से उबरने की चुनौती

रेड्डी ने मुंबई में सप्ताहांत पर संवाददाताओं के एक समूह के सवालों के जवाब में कहा कि इस समय आर्थिक वृद्धि को लेकर कोई अनुमान लगाना काफी मुश्किल काम है. उन्होंने कहा कि यह कहना अभी मुश्किल है कि अर्थव्यवस्था फिर से 7.5 से 8 प्रतिशत की संभावित उच्च वृद्धि के रास्ते पर कब लौटेगी.

यह भी पढ़ें : नोटबंदी : संदिग्ध रकम जमा करवाने वाले 18 लाख लोगों पर आयकर विभाग की पैनी नजर

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उन्होंने याद किया कि जब वह आरबीआई के गवर्नर थे, उसके मुकाबले पिछले तीन साल में कच्चे तेल के दाम एक-तिहाई पर आ गए थे. हालांकि, इस बीच जीएसटी लागू होने, नोटबंदी का कदम उठाने और बैंकों की भारी एनपीए की वजह से आर्थिक वृद्धि प्रभावित हुई.

VIDEO : नोटबंदी, जीएसटी के असर से उबरी अर्थव्यवस्था?
रेड्डी ने कहा कि उच्च वृद्धि के दौरान पिछली सरकार में बिना सोच विचार के दिए गए कर्ज और भ्रष्टाचार के आरापों को लेकर टेलीकॉम तथा कोयला क्षेत्र में घटे घटनाक्रम से कंपनी क्षेत्र पर काफी दबाव बढ़ गया. इस समूचे घटनाक्रम से बैकिंग तंत्र में फंसा कर्ज 15 प्रतिशत तक बढ़ गया था. (इनपुट भाषा से)