NDTV Khabar

अकेले SBI को विलफुल डिफॉल्टरों से वसूलने हैं 25,104 करोड़ रुपये के डूबे कर्ज

एसबीआई को जानबूझकर कर्ज न चुकाने वाले घोषित 1,762 कर्जदारों से 25,104 करोड़ रुपये वसूलने हैं.

13 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अकेले SBI को विलफुल डिफॉल्टरों से वसूलने हैं 25,104 करोड़ रुपये के डूबे कर्ज

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली: देश के सबसे बड़े भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) को जानबूझकर कर्ज न चुकाने वाले घोषित 1,762 कर्जदारों से 25,104 करोड़ रुपये वसूलने हैं. ऐसे कर्जदारों के पास देश के सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के कुल फंसे कर्ज का 27 प्रतिशत अकेले एसबीआई को वसूलना है. ये आंकड़े इस साल 31 मार्च तक के हैं. इस सूची में अगला नाम पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) का आता है. उसके 1,120 घोषित डिफॉल्टरों के पास बैंक का 12,278 करोड़ रुपये फंसा है. इस तरह ऐसे बकाएदारों के पास सरकारी बैंकों के फंसे कर्ज का 40 प्रतिशत यानी 37,382 करोड़ रुपये इन्हीं दोनों बैंकों के हिस्से का है.

यह भी पढ़ें: जानबूझकर कर्ज नहीं चुकाने वालों पर सार्वजनिक बैंकों का 92000 करोड़ रुपये बकाया

वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार वित्त वर्ष 2016-17 के अंत तक जानबूझकर कर्ज न चुकाने वालों पर सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का 92,376 करोड़ रुपये का बकाया था. इससे पिछले वित्त वर्ष 2015-16 के अंत तक यह आंकड़ा 76,685 करोड़ रुपये था. इस तरह सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की गैर निष्पादित आस्तियों (एनपीए) में 20.4 प्रतिशत का इजाफा हुआ.

VIDEO : SBI की नई स्कीम, मोबाइल वॉलेट की मदद से निकाल सकेंगे पैसा
इसी के साथ सालाना आधार पर विल्फुल डिफॉल्टरों की संख्या में 10 प्रतिशत का इजाफा हुआ है. मार्च के अंत तक डिफॉल्टरों की संख्या बढ़कर 8,915 पर पहुंच गई है जो इससे पिछले वित्त वर्ष के अंत तक 8,167 थी. जानबूझकर टैक्स चूक के 8,915 मामलों में से बैंकों ने 32,484 करोड़ रुपये के 1,914 मामलों में प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) दर्ज कराई है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement