PhD करने जा रहे हैं? एडमिशन के लिए अब करना होगा कड़े कंपीटिशन का सामना

PhD करने जा रहे हैं? एडमिशन के लिए अब करना होगा कड़े कंपीटिशन का सामना

नई दिल्ली:

पीएचडी में एडमिशन पाना अब पहले से मुश्किल हो जाएगा। सावित्रीबाई फुले पुणे यूनिवर्सिटी (एसपीपीयू) के अधिकारियों को मिले यूजीसी के नए नियमों के मुताबिक अब एसोसिएट प्रोफेसर और असिस्टेंट प्रोफेसर पहले की तुलना में कम पीएचडी उम्मीदवारों का गाइड बन पाएंगे। अब पीएचडी उम्मीदवारों की संख्या काफी सीमित कर दी गई है। 

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक पहले के नियम के अनुसार आठ छात्रों पर एक पीएचडी गाइड हो सकता था। लेकिन अब फुल टाइम प्रोफेसर (रिसर्च सुपरवाइजर) ही आठ पीएचडी स्कोलर ले सकता है। जबकि एसोसिएट प्रोफेसर छह पीएचडी स्कोलर और असिस्टेंट प्रोफेसर चार पीएचडी स्कोलर ले सकता है। 

ये भी पढ़ें: ये हैं IT क्षेत्र में सबसे अधिक नौकरियां देने वाली कंपनियां

इससे पहले सभी अप्रूव्ड रिसर्च गाइड आठ पीएचडी गाइड तक ले सकते थे। उनका पद इसमें रुकावट नहीं बनता था। लेकिन अब एसोसिएट प्रोफेसर और असिस्टेंट प्रोफेसर कम स्कोलर का गाइड ही बन पाएंगे। 

Newsbeep

ये भी पढ़ें: वेतन में होगी 10.7 प्रतिशत की वृद्धि, शानदार प्रदर्शन करने वालों को मिलेगा भारी लाभ

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एक्सपर्ट्स का कहना है कि यूजीसी के इस नए नियम से एमफिल और पीएचडी में होने वाले शोध के स्तर में सुधार होगा लेकिन इससे पीएचडी करना चाह रहे उम्मीदवारों के बीच प्रतियोगिता और कड़ी हो जाएगी।