Board Exams 2020: बोर्ड परीक्षाओं और कॉपियां जांचने को लेकर मानव संसाधन विकास मंत्री ने राज्यों से की ये अपील

मीटिंग के दौरान दिल्ली सरकार ने केंद्र सरकार से अपील की कि वे इंटरनल एग्जाम के नंबरों के आधार पर 10वीं और 12वीं के स्टूडेंट्स को पास करें.

Board Exams 2020: बोर्ड परीक्षाओं और कॉपियां जांचने को लेकर मानव संसाधन विकास मंत्री ने राज्यों से की ये अपील

मानव संसाधन विकास मंत्री ने बोर्ड परीक्षाओं को लेकर खास अपील की है.

नई दिल्ली:

CBSE Board Exams Evaluation: केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' के साथ मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री, संजय धोत्रे ने मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी राज्यों के शिक्षा मंत्रियों और शिक्षा सचिवों के साथ बातचीत की. इस दौरान मानव संसाधन विकास मंत्री ने सभी राज्यों से अपील की कि वे बोर्ड परीक्षाओं (Board Exams) की आंसर शीट्स जांचने की प्रक्रिया शुरू करें. इसके साथ ही सभी राज्यों से कहा की वे सीबीएसई (CBSE) को अपने राज्यों में छात्रों की आंसर शीट्स जांचने की प्रक्रिया की सुविधा प्रदान करें.

मानव संसाधन विकास मंत्री संग इस वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में 22 राज्यों के शिक्षा मंत्री और 14 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के सचिव शामिल हुए थे. इनके अलावा इस मीटिंग में स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग की सचिव अनिता करवाल और मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हुए थे.

इस मीटिंग के दौरान दिल्ली सरकार ने केंद्र सरकार से अपील की कि वे इंटरनल एग्जाम के नंबरों के आधार पर 10वीं और 12वीं के स्टूडेंट्स को पास करें, क्योंकि सीबीएसई कोरोनावायरस (Coronavirus)  महामारी से पनपे हालातों के बीच बोर्ड की परीक्षाएं आयोजित करने में सक्षम नहीं होगा.

इसके अलावा दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ये भी अनुरोध किया कि सभी क्लासेस के लिए सिलेबस कम से कम 30 फीसदी कम होना चाहिए. इसके साथ ही JEE Main, Neet और दूसरे उच्च शिक्षा परीक्षा के लिए भी कोर्स को भी कम करना चाहिए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

मानव संसाधन विकास मंत्री ने मीटिंग के दौरान कहा कि हमारी कोशिश होनी चाहिए कि स्टूडेंट्स  को किसी तरह की कोई परेशानी न हो और वे अपनी पढ़ाई जारी रख सकें. ऑनलाइन एजुकेशन को बेहतर बनाने के लिए कई तरह के प्रयास किए गए हैं. उन्होंने ये भी कहा कि NCERT अकेडमिक कैलेंडर जारी कर चुका है. सभी राज्य स्थिति के अनुसार ये कैलेंडर फॉलो कर सकते हैं.

वहीं, किताबों के लेकर उन्होंने कहा कि स्टूडेंट्स की पढ़ाई को ध्यान में रखते हुए लॉकडाउन में भी किताबों की दुकानें खोलने की इजाज़त दे दी गई है. स्टूडेंट्स किताबें खरीद कर अपनी पढ़ाई शुरू कर सकते हैं.