बोर्ड परीक्षा: साइंस के पेपर की तैयारी करते समय इन 5 बातों का रखें ध्यान

बोर्ड परीक्षा: साइंस के पेपर की तैयारी करते समय इन 5 बातों का रखें ध्यान

अधिकांश परीक्षा बोर्डों ने 10वीं और 12वीं परीक्षा की डेटशीट जारी कर दी है. छात्र भी कमर कसकर तैयारी में जुट गए हैं. सीबीएसई, आईएससी, आईसीएसई और तमाम राज्य बोर्डों के स्टूडेंट्स रणनीति बनाने में लगे हैं. स्ट्रैटजी बनाने में साइंस का विषय अकसर विद्यार्थियों को परेशान करता है. अब इन बचे हुए दिनों में साल भर की तैयारी को फाइनल टच देने का वक्त है. ग्रेटर नोएडा में स्थित जीडी गोयनका पब्लिक स्कूल में शिक्षण का कार्य कर रहीं रूपाली सैनी (पीजीटी बायोलॉजी) ने इस संबंध में 5 टिप्स शेयर किए हैं. 

तैयारी की योजना बनाएं 
बतौर साइंस स्टूडेंट आपकी प्लानिंग बेहद प्रभावी होनी चाहिए. तैयारी का एक टाइम टेबल बनाएं. पढ़ाई के लिए वो वक्त चुनें जिसमें आप सबसे ज्यादा ऊर्जावान रहते हैं, फिर चाहे वह सुबह हो या शाम. वक्त ही नहीं बल्कि घर में एक स्थान भी चुनें जहां आप बिना किसी डिस्टरबेंस के पढ़ाई कर सकें. वो जगह पढ़ाई के लिए उपयुक्त हो. 


कॉन्सेप्ट क्लीयर करें
साइंस पूरी तरह से कॉन्सेप्ट को समझने का विषय है. छात्र अकसर बेसिक्स को बगैर समझे एग्जाम में चले जाते हैं और परीक्षा में गलती कर बैठते हैं. अगर आपका कॉन्सेप्ट क्लीयर है तो सवाल को दूसरे तरीके से पूछे जाने पर भी आपका उसे आसानी से हल कर देंगे. 
Newsbeep

किसी भी विषय को अंतिम समय के लिए न छोड़ें 
साइंस का विषय रेगुलर स्टडी की डिमांड करता है. ऐसे में किसी भी विषय को अंतिम क्षणों के लिए न छोड़ें. इससे अंतिम समय में अनावश्यक तनाव व दवाब बढ़ता है. आखिरकार ये आपके रिजल्ट पर बुरा असर डालेगा. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


CBSE 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा: तारीखों में हुए बदलाव, यहां देखें नया टाइम-टेबल


सैंपल पेपर्स की मदद जरूर  लें
ईमानदारी और अनुशासित रहकर पिछले सालों के प्रश्न पत्र हल करें. इसके लिए सैंपल पेपर्स की मदद लें. निर्धारित समय में इनकी प्रैक्टिस करें और अपनी कमजोरियों को पहचानें. इससे आपका डर कम होगा. 

रिवाइज करें और नई किताब न पढ़ें
एग्जाम से ऐन पहले कुछ नया न पढ़ें. कोई नई किताब की तरफ न देखें. इससे आप कंफ्यूज हो सकते हैं. वही नोट्स पढ़ें जो आपने साल भर पढ़ें हैं. महत्वपूर्ण फॉर्मूलों के नोट्स बना सकते हैं जिन्हें कुछ घंटों पहले पढ़ा जा सकता है.