Bihar Board 10th Topper: न इंटरनेट- न मोबाइल, बैटरी लाइट में पढ़कर हिमांशु राज ने किया परीक्षा में टॉप

NDTV से बात करते हुए बिहार बोर्ड 10वीं के टॉपर हिमांशु की मां ने उसकी जिंदगी, उसके सपने और पढ़ाई को लेकर उसके उत्साह और जोश के बारे में कई अहम चीजें साझा की हैं.

Bihar Board 10th Topper: न इंटरनेट- न मोबाइल, बैटरी लाइट में पढ़कर हिमांशु राज ने किया परीक्षा में टॉप

Bihar Board 10th Topper: हिमांशु राज सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते हैं.

नई दिल्ली:

Bihar Board 10th Topper: बिहार बोर्ड की मैट्रिक परीक्षा (BSEB Class 10th Result) में इस साल रोहतास जिले के हिमांशु राज ने टॉप किया है. हिमांशु की पढ़ाई रोहतास जिले के जनता हाई स्कूल में हुई है. बिहार में 10वीं बोर्ड की परीक्षा में हिमांशु राज ने 96.20 फीसदी अंक हासिल कर पूरे राज्य में टॉप किया है. हिमांशु को 500 में से 481 अंक प्राप्त हुए हैं. ऐसे में पूरे रोहतास जिले में खुशी का माहौल है. हिमांशु ने बिहार बोर्ड की 10वीं परीक्षा में टॉप (Bihar Board 10th Topper Himanshu Raj) करके तमाम स्टूडेंट्स के लिए मिसाल कायम की है. हिमांशु के पिता पेशे से सब्जी बेचने का काम करते हैं.

NDTV से बात करते हुए बिहार बोर्ड टॉपर की मां ने उसकी जिंदगी, उसके सपने और पढ़ाई को लेकर उसके उत्साह और जोश के बारे में कई अहम चीजें साझा की हैं. हिमांशु की मां ने कहा की वह बचपन से ही पढ़ाई में बहुत दिलचस्पी रखता था. हिमांशु का सपना था कि वह बोर्ड परीक्षा में बहुत अच्छा प्रदर्शन करे और अच्छे नंबरों से पास होकर टॉप स्टूडेंट्स की लिस्ट में अपना नाम शामिल करें. हिमांशु की मां ने कहा, "पढ़ाई में हिमांशु की लगन और मेहनत को देखकर लगा था कि वह टॉप-10 में अपनी जगह जरूर बनाएगा, लेकिन हिमांशु पहले नंबर पर अपनी जगह बनाई है." हिमांशु की सफलता के बाद उनके घर में जश्न का माहौल है. 

लाइट न होने पर बैटरी लाइट से देर रात तक की पढ़ाई
हिमांशु की मां ने कहा, "हिमांशु रोजाना 13 से 14 घंटे पढ़ाई करता था. वह अपनी पढ़ाई में गैप नहीं करता था. रात के समय में जब लाइट नहीं होती थी तो हिमांशु बैटरी वाली लाइट जलाकर देर रात तक पढ़ाई करता था.' उन्होंने आगे बताया, "हिमाशुं आगे जाकर सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहता है."

क्रिकेट खेलने और म्यूजिक सुनने का है शौक
हिमांशु की मां ने बताया कि उसे क्रिकेट खेलना बहुत पसंद है. पढ़ाई से फ्री होकर हिमांशु अपने दोस्तों के साथ क्रिकेट खेलने जाता था. उसे म्यूजिक का भी काफी शौक है. हालांकि, दूसरे बच्चों की तरह वह कभी मोबाइल पर गेम नहीं खेल पाया, क्योंकि हमारे घर में न स्मार्टफोन और न इंटरनेट. बता दें कि हिमांशु के पूरे परिवार में सिर्फ उसके पापा के पास एक छोटा सा मोबाइल है. मां ने आगे बताया, "अगर हिमांशु को कभी इंटरनेट की जरूरत पड़ती थी तो वह पड़ोस के घर में जाकर सहायता लेता है."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

हिमांशु की मां से जब पूछा गया कि हिमांशु को घूमने का कितना शौक है? इसपर उनकी मां ने कहा, "हिमांशु पहले जिंदगी में सफल इंसान बनकर देश के लिए कुछ करना चाहता है और उसके बाद देशभर में घूमने का सपना रखता है."

VIDEO: रोहतास के हिमांशु ने किया बिहार बोर्ड की 10वीं की परीक्षा में टॉप