NDTV Khabar

CBSE 10th Board Exam: सीबीएसई ने दी खुशखबरी, अब स्‍टूडेंट चुन पाएंगे गणित का आसान पेपर

CBSE 10वीं बोर्ड परीक्षा में अब गणित के दो लेवल यानी कि स्‍तर होंगे. पहला लेवल मौजूदा लेवल की ही तरह होगा, जबकि दूसरा लेवल आसान होगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
CBSE 10th Board Exam: सीबीएसई ने दी खुशखबरी, अब स्‍टूडेंट चुन पाएंगे गणित का आसान पेपर

सीबीएसई ने गणित के पेपर चयन में बदलवान कर 10वीं बोर्ड के स्‍टूडेंट्स को बड़ी राहत दी है

खास बातें

  1. सीबीएसई ने 10वीं बोर्ड के स्‍टूडेंट्स को बड़ी राहत दी है
  2. अब स्‍टूडेंट्स के पास गणित का आसान पेपर चुनने की आजादी होगी
  3. यह नियम 2019-20 सत्र से लागू होगा
नई दिल्‍ली:

Central Board of Secondary Education (CBSE) ने 10वीं बोर्ड (10th Board) के स्‍टूडेंट्स के लिए बड़ी राहत का ऐलान किया है. जी हां, सीबीएसई ने अपने नए फैसले में स्‍टूडेंट्स की मैथ्‍स की टेंशन को काफी हद तक कम कर दिया है. सीबीएसई के नए नियम के मुताबिक 10वीं बोर्ड के आगामी सत्र यानी कि 2019-20 से स्‍टूडेंट मैथ्‍स के स्‍तर को चुन सकेंगे. सीबीएसई ने इस बाबत जो आधिकारिक नोटिस जारी किया है उसके मुताबिक अब 10वीं बोर्ड परीक्षा में गणित के दो लेवल यानी कि स्‍तर होंगे. पहला लेवल मौजूदा लेवल की ही तरह होगा, जबकि दूसरा लेवल आसान होगा. हालांकि यह नियम सिर्फ 10वीं की बोर्ड परीक्षा में ही लागू होगा, स्‍कूल की इंटर्नल परीक्षा पहले की ही तरह होगी. 

 इन 5 बातों का रखें ध्यान, साइंस पेपर में मिलेंगे अच्छे नंबर


सीबीएसई के नोटिफिकेशन के मुताबिक, पहले लेवल को मैथमेटिक्‍स स्‍टैंडर्ड (Mathematics Standard) कहा जाएगा, जबकि दूसरे यानी कि आसान लेवल को मैथमेटिक्‍स बेसिक (Mathematics Basic) का नाम दिया गया है. स्‍टूडेंट्स को बोर्ड परीक्षा के लिए किसी एक लेवल का चुनाव करना होगा. स्‍टूडेंट्स को मैथ्‍स का लेवल चुनने का अधिकार बोर्ड का फॉर्म भरते समय मिलेगा. इसी के साथ दोनों लेवल के लिए सिलेबस और इंटरनल एसेस्‍मेंट में कोई बदलाव नहीं किया गया है. सबकुछ पहले की ही तरह रहेगा ताकि स्‍टूडेंट्स को पूरे साल सभी टॉपिक्‍स को पढ़ने का मौका मिले. इससे स्‍टूडेंट्स यह तय कर पाएंगे कि उन्‍हें परीक्षा के लिए किस लेवल का चयन करना है. 

सीबीएसई ने यह भी कहा है कि स्‍टैंडर्ड लेवल उन स्‍टूडेंट्स के लिए होगा जिन्‍हें आगे की क्‍लास में मैथ्‍स सब्‍जेक्‍ट लेना है, जबकि ऐसे स्‍टूडेंट जो 10वीं के बाद मैथ्‍स सब्‍जेक्‍ट नहीं लेना चाहते हैं वे बेसिक लेवल चुन सकते हैं. अगर स्‍टूडेंट किसी लेवल में फेल हो जाते हैं तो वे सीबीएसई के नियमों के मुताबिक कम्‍पार्टमेंट परीक्षा में बैठ सकते हैं. 

टिप्पणियां

CBSE Exam: इन 3 टिप्स को फॉलों कर ला सकते हैं 90 फीसदी से ज्यादा नंबर

सीबीएसई ने अपने नोटिफिकेशन में यह भी बताया है कि बोर्ड परीक्षा में मैथ्‍स में फेल होने पर स्‍टूडेंट् कम्‍पार्टमेंट परीक्षा के लिए अपना लेवल बदल सकते हैं. अगर कोई स्‍टूडेंट स्‍टैंडर्ड लेवल में फेल हो जाए तो वह स्‍टैंडर्ड या बेसिक में से किसी भी लेवल की कम्‍पार्टमेंट परीक्षा दे सकता है. यही नहीं, बोर्ड में पास होने के बाद भी स्‍टूडेंट के पास होने के बाद भी अपना स्‍तर सुधारने का मौका होगा. यानी कि अगर कोई स्‍टूडेंट बोर्ड में बेसिक मैथ्‍स में पास हो जाए तो वह स्‍टैंडर्ड मैथ्‍स की कम्‍पार्टमेंट परीक्षा में भी बैठ सकता है.  


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement