NDTV Khabar

CBSE Board Exam 2018: 10वीं, 12वीं के परीक्षार्थियों को ऐसे कहें Good Luck

परीक्षा से पहले छात्रों के मन में कई तरह की घबराहट होती है. चाहे तैयारी जैसी भी लेकिन एक अजीब सा डर ज्‍यादातर छात्रों के मन में रहता है कि पता नहीं क्‍या होगा. ऐसे में अगर किसी की शुभकामनाएं मिल जाएं तो ये बड़ी राहत की बात लगती है और परीक्षा के इस मौसम में सभी को ऐसे किसी संदेश का इंतजार तो जरूर रहता होगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
CBSE Board Exam 2018: 10वीं, 12वीं के परीक्षार्थियों को ऐसे कहें Good Luck

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

नई दिल्‍ली: सीबीएसई बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षा सोमवार से शुरू हो रही है. इस परीक्षा में करीब 28 लाख से ज्यादा छात्र शामिल होंगे. सीबीएसई के एक अधिकारी ने बताया कि 10वीं कक्षा की परीक्षा के लिए करीब 16,38,428, जबकि 12वीं कक्षा की परीक्षा के लिए 11,86,306 छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया है. सभी परीक्षा 10:30 बजे से शुरू होगी. परीक्षा से पहले छात्रों के मन में कई तरह की घबराहट होती है. चाहे तैयारी जैसी भी लेकिन एक अजीब सा डर ज्‍यादातर छात्रों के मन में रहता है कि पता नहीं क्‍या होगा. ऐसे में अगर किसी की शुभकामनाएं मिल जाएं तो ये बड़ी राहत की बात लगती है और परीक्षा के इस मौसम में सभी को ऐसे किसी संदेश का इंतजार तो जरूर रहता होगा. तो हम लेकर आए हैं ऐसे ही 25 संदेश जिसे आप अपने जानने वाले ऐसे किसी छात्र को भेज कर उसका हौसला बढ़ा सकते हैं जो 10वीं या 12वीं की परीक्षा में शामिल होने वाले हैं.


चाह रखने वाले कभी ताकते नहीं, बढ़कर थाम लिया करते हैं,
जिनके हाथों में हो वक्‍त की कलम, अपनी किस्‍मत वो खुद लिखा करते हैं.

कुछ करने की इच्‍छा रखने वाले व्‍यक्ति के लिए इस दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं है
इसलिए आगे बढ़ो, बेस्‍ट ऑफ लक...

मुश्किलें हमेशा बेहतरीन लोगों के हिस्‍से में ही आती हैं,
क्‍योंकि वो लोग ही उसे बेहतरीन तरीके से अंजाम देने की ताकत रखते हैं.

संघर्ष इंसान को मजबूत बनाता है,
फिर चाहे वो कितना भी कमजोर क्‍यों न हो...

सफलता चल कर नहीं आती, हमें उस तक पहुंचना पड़ता है,
ठीक उसी तरह जिस तरह भगवान ने हर पक्षी को भोजन तो दिया है, पर उसके घोसले में नहीं

हर सवाल से डट कर लड़ना, फेंकने में कमी मत करना
मौका मिले तो पीछे भी देखना, और एक बात- आगे वाले का पेपर अपना ही समझना...

एक्‍जाम का साया है, एक्‍जाम के दिनों में सुख किसने पाया है,
कहते हैं दुनिया वाले कि अच्‍छे नंबर लाओ, पर इन्‍हें कौन समझाए, ये तो मोह माया है...

ये एक्‍जाम के रिश्‍ते भी अजीब होते हैं
सब अपने अपने नसीब होते हैं
रहते जो निगाहों से दूर,
वही क्‍वेश्‍चन कंपलसरी होते हैं...

ना वक्‍त है उतना कि सिलेबस पूरा किया जाए
ना तरकीब कोई कि एक्‍जाम पास किया जाए
ना जाने कौन सा दर्द दिया है इस पढ़ाई ने,
न रोया जाए और न सोया जाए...

जीत और हार आपकी सोच पर ही निर्भर करती है,
मान लो तो हार होगी और ठान लो तो जीत है...

जिंदगी का रुख मोड़  देंगे
सारी बंदिशें तोड़ देंगे
ये एक्‍जाम कैसे भी निकल जाए
नेक्‍स एक्‍जाम में तो रिकॉर्ड ही बना देंगे...

जब पेड़ से टूटा पत्ता भी अपनी अलग छवि बना सकता है, तो हम क्‍यों नहीं...?

टिप्पणियां
यदि सपने सच नहीं होते तो रास्‍ते बदलो, सिद्धांत नहीं,
पेड़ हमेशा पत्तियां बदलते हैं, जड़ें नहीं...

जिंदगी कांटों का सफर है, हौसला उसकी पहचान है,
रास्‍ते पर तो सभी चलते हैं, जो रास्‍ता बनाए वही इंसान है...



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement