NDTV Khabar

CBSE Board Examination: 10वीं और 12वीं के बोर्ड एग्जाम आज से, 28 लाख से ज्यादा स्टूडेंट देंगे परीक्षा

CBSE Board की 10वीं और 12वीं की परीक्षा आज से शुरू हो रही है. इस परीक्षा में करीब 28 लाख से ज्यादा छात्र शामिल होंगे. सीबीएसई के एक अधिकारी ने बताया कि 10वीं कक्षा की परीक्षा के लिए करीब 16,38,428, जबकि 12वीं कक्षा की परीक्षा के लिए 11,86,306 छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया है.

69 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
CBSE Board Examination: 10वीं और 12वीं के बोर्ड एग्जाम आज से, 28 लाख से ज्यादा स्टूडेंट देंगे परीक्षा

CBSE Board की 10वीं और 12वीं की परीक्षा आज से शुरू हो रही है.

खास बातें

  1. CBSE Board की 10वीं और 12वीं की परीक्षा आज से.
  2. 10वीं कक्षा की परीक्षा के लिए करीब 16,38,428 स्टूडेंट्स एग्जाम देंगे.
  3. 12वीं कक्षा की परीक्षा के लिए 11,86,306 छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया है.
नई दिल्ली: CBSE Board की 10वीं और 12वीं की परीक्षा आज से शुरू हो रही है. इस परीक्षा में करीब 28 लाख से ज्यादा छात्र शामिल होंगे. सीबीएसई के एक अधिकारी ने बताया कि 10वीं कक्षा की परीक्षा के लिए करीब 16,38,428, जबकि 12वीं कक्षा की परीक्षा के लिए 11,86,306 छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया है. सभी परीक्षा 10:30 बजे से शुरू होगी. 10वीं बोर्ड की परीक्षा के लिए भारत में कुल 4,453 सेंटर्स हैं वहीं, 71 सेंटर्स विदेश में हैं. ठीक वैसे ही 12वीं की परीक्षा के लिए भारत में कुल 4,138 सेंटर्स हैं और 71 सेंटर्स विदेश में.

CBSE Board Exam 2018: 10वीं, 12वीं के परीक्षार्थियों को ऐसे कहें Good Luck

जिन स्टूडेंट्स को डायबिटीज है उन्हें खाने ले जाने की इजाजत है. उन्हें शुगर टेबलेट और फ्रूट्स एग्जाम हॉल में ले जाने की इजाजत होगी. साथ ही वो ट्रांस्पेरेंट बॉटल में पानी ले जा सकते हैं. लेकिन स्टूडेंट्स को पैकेट फूड, चोकलेट, कैंडी या फिर सैंडविच ले जाने की इजाजत नहीं है. बोर्ड परीक्षा में छात्र ज्यादा स्ट्रेस ले लेते हैं. ज्यादा अंक लाने के चक्कर में मन में प्रेशर ले लेते हैं. आइए आपको बताते हैं ऐसी 3 गलतियों के बारे में जिनसे आपको तैयारी के दौरान बचना चाहिए.

CBSE Board Exam 2018: 10वीं और 12वीं की परीक्षा, जानें परीक्षा का पूरा शेड्यूल

रिवीजन पर ज्यादा ध्यान नहीं देना
परीक्षा की तारीख नजदीक आते ही छात्र उन टॉपिक्स को भी पढ़ने और याद करने की कोशिश करते हैं जिन्हे वह पहले छोड़ कर चल रहे थे. छात्रों को लगता है कि कहीं इन्ही टॉपिक्स से परीक्षा में सवाल न पूछ लिए जाएं. छात्रों का यह फैसला ही उन्हें खुद ब खुद एक दुविधा में फंसा देता है. इस वजह से कई बार छात्र पढ़ी गई चीजों को दोहराना भूल जाते हैं. छात्रों को चाहिए कि वह परीक्षा से कुछ दिन पहले सिर्फ पढ़ी गई चीजों के रिवीजन पर ही ध्यान दें. नई चीजें याद करने के चक्कर में वह पहले की पढ़ी गई चीजों को भी नहीं दोहरा पाते. 

CBSE ने दसवीं बोर्ड के पासिंग मार्क्स में किया बड़ा बदलाव, पास होने के लिए लाने होंगे अब इतने मार्क्स 

टिप्पणियां
नींद पूरी न करना
परीक्षा के दबाव की वजह से छात्र दिन-रात एक करके पढ़ाई करना चाहते हैं. ज्यादा से ज्यादा सिलेबस को पूरा करने के चक्कर में वह जरूरत भर नींद भी नहीं लेते. छात्रों को लगता है कि वह इस समय जितना पढ़ेंगे उन्हें परीक्षा में उतना ही ज्यादा नंबर लाने में मदद मिलेगी. जबकि होता इसका उलट है. जानकारों की मानें तो कई बार नींद पूरी न करने की वजह से हर बीतते दिन के साथ छात्रों में पढ़ी गई चीजों को लेकर कंफ्यूजन बढ़ने लगता है.और इस वजह से उनके अंदर घबराहट शुरू हो जाती है. इन दिक्कतों से बचने के लिए जरूरी है कि छात्र परीक्षा की तैयारी करते हुए नींद से समझौता न करें. ऐसा करके ही वह परीक्षा में बेहतर कर पाएंगे.

एनसीईआरटी की किताब जरूर पढ़ें
अकसर ऐसा देखा जाता है कि परीक्षा शुरू होने से कुछ दिन पहले छात्र अपनी तैयारी को और पुख्ता करने के लिए अलग-अलग गाइड और किताबों को पढ़ते हैं. छात्रों को ऐसा करने से हमेशा बचना चाहिए. उन्हें चाहिए कि वह तैयारी के दौरान सिर्फ एनसीईआरटी की किताब ही पढ़ें. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement