CBSE 12th Exam: बोर्ड परीक्षा की डेट आने के बावजूद परेशान हैं स्टेंड्टस, बताई यह वजह

CBSE 12th Exam: केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ''निशंक'' ने शनिवार को कहा कि कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं की जांच शिक्षकों द्वारा अपने घरों पर की जाएगी. 

CBSE 12th Exam: बोर्ड परीक्षा की डेट आने के बावजूद परेशान हैं स्टेंड्टस, बताई यह वजह

सीबीएसई परीक्षाओं को लेकर परेशान स्टूडेंट्स (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

सीबीएसई (CBSE) परीक्षाओं की तारीखें घोषित होने के बावजूद 12वीं के हजारों स्टूडेंट्स के माथे पर चिंता की लकीरें अब भी कायम हैं. कोरोनावायरस महामारी की वजह से वे भविष्य की योजनाओं को लेकर चिंतित हैं. मानव संसाधन मंत्रालय की ओर से 1 जुलाई से 15 जुलाई के बीच सीबीएसई परीक्षाएं भले ही घोषित कर दी हैं, लेकिन बहुत से छात्रों के जहन में अभी भी कई तरह के सवाल हैं. 17 साल की एक स्टूडेंट प्रत्यूषा झा ने बताया कि वह लंबित बोर्ड परीक्षाओं से जुड़ी जानकारियों के लिए रोजाना अखबारों के पन्ने पलटती हैं. उन्हें भविष्य की योजना को लेकर डर सता रहा है. 

प्रत्यूषा ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया, 'मैं हर रोज परीक्षा और अन्य प्रवेश परीक्षाओं से जुड़ी खबरें देखती हूं. मेरा दुर्भाग्य है कि यह सब अभी होना था जब मैं कॉलेज जाने वाली हूं. यह साल मेरे लिए बहुत अहम है. मेरे इस वर्ष लिए गए फैसले पर मेरा पूरा भविष्य टिका हुआ है. मैं अभी जिस चीज का चुनाव करूंगी वो जीवनभर मेरे साथ चलेगा.'

बिपिन कुमार ने बताया, "हमारी चिंताएं अभी खत्म नहीं हुई हैं क्योंकि अब तक डेटशीट नहीं है. इसे लेकर अभी कुछ भी स्पष्ट नहीं है. मैं दिल्ली विश्वविद्यालय में आवेदन करना चाहता हूं लेकिन यदि परीक्षाएं जुलाई में होंगी, जो रिजल्ट कब घोषित होगा और कट-ऑफ की घोषणा कब होगी. अगर मुझे दिल्ली में अच्छा कॉलेज में नहीं मिला तो मैं अन्य राज्यों के अच्छे कॉलेज में एडमिशन लेने कैसे जा सकूंगा. अब तक इस बारे में कुछ भी नहीं पता. 

इस बीच, केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ''निशंक'' ने शनिवार को कहा कि कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं की जांच शिक्षकों द्वारा अपने घरों पर की जाएगी. उन्होंने कहा कि शिक्षकों को उत्तर पुस्तिकाएं सौंपने के लिए 3,000 स्कूलों को परीक्षा केंद्रों के रूप में चिन्हित किया गया है. गृह मंत्रालय से सहमति मिलने के बाद यह कदम उठाया गया है. 

मंत्री ने कहा कि कक्षा 10 और 12 की हो चुकी परीक्षाओं की 1.5 करोड़ उत्तर पुस्तिकाएं शिक्षकों को दी जाएंगी।
उन्होंने कहा कि देश भर में सीबीएसई से संबद्ध तीन हजार स्कूलों की पहचान मूल्यांकन केंद्र के रूप में की गयी है और उन्हें मूल्यांकन कार्य के लिए विशेष अनुमति दी जाएगी. उन्होंने कहा कि 3,000 स्कूलों से ये उत्तर पुस्तिकाएं शिक्षकों के घरों तक पहुंचायी जाएगी और कल से उत्तर पुस्तिकाओं की जांच शुरू हो जाएगी. यह प्रक्रिया 50 दिनों में पूरी हो जाएगी. 

बोर्ड की लंबित परीक्षाएं एक से 15 जुलाई के बीच होंगी. मंत्री ने स्पष्ट किया कि जुलाई में शेष परीक्षाएं आयोजित होने के बाद ही परिणाम घोषित किए जाएंगे.  भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) द्वारा जेईई-एडवांस्ड के लिए मेरिट सूची घोषित किए जाने से पहले अगस्त के अंत तक 12वीं कक्षा के परिणाम घोषित होने की उम्मीद है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com