CBSE ने 11वीं क्‍लास के लिए शुरू किया नया सब्‍जेक्‍ट 'अप्‍लाइड मैथ्‍स', जानिए डिटेल में

सीबीएसई (CBSE) के जारी किए हुए नोटिस में यह जानकारी दी गई है कि 11वीं में स्टूडेंट मैथ्मेटिक्स जिसका कोड (041) और 'एप्लाइड मैथ्मेटिक्स, जिसका कोड (241) है इनमें से सिर्फ एक विषय ही चुन सकते हैं.

CBSE ने 11वीं क्‍लास के लिए शुरू किया नया सब्‍जेक्‍ट 'अप्‍लाइड मैथ्‍स', जानिए डिटेल में

11वीं के स्टूडेंट्स अब अप्लाइड मैथमेटिक्स पढ़ सकेंगे.

नई दिल्ली:

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेश (CBSE) ने 11वीं क्लास के स्टूडेंट्स के लिए नया सब्‍जेक्‍ट अप्लाइड मैथमेटिक्स (241) शुरू किया है. अप्लाइड मैथमेटिक्स का पेपर स्टूडेंट्स को अलग-अलग फील्ड्स के लिए मैथ्स की एप्लीकेशन के बारे में जानकारी देगा. 11वीं क्लास से स्टूडेंट्स को अब मैथमेटिक्स (Mathematics) और अप्लाइड मैथमेटिक्स  (Applied Mathematics) में से किसी एक पेपर का चयन करना होगा. यह फैसला मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' के कहने पर लिया गया है. 

सीबीएसई ने नोटिफिकेश जारी करके बताया, "मैथमेटिक्स एक ऐसा सब्जेक्ट है, जो आगे जाकर इकोनॉमिक्स, कॉमर्स, सोशल साइंस और दूसरी फील्ड में सबसे ज्यादा उपयोग किया जाता है. ऐसा देखा गया कि मैथमेटिक्स का मौजूदा सिलेबस साइंस के साथ बाखूबी जाता है. लेकिन यूनिवर्सिटी एजुकेशन के समय ये सिलेबस कॉमर्स और सोशल साइंस पर बेस्ड सब्जेक्ट्स के साथ नहीं जाता है. इसको ध्यान में रखते हुए मैथमेटिक्स सिलेबस में एक और इलेक्टिव जोड़ा जा रहा है. इसका उद्देश्य स्टूडेंट्स को मैथमेटिक्स में इस तरह का ज्ञान देना है, जो फीजिक्स के अलावा दूसरी फील्ड में भी इस्तेमाल किया जा सके. 

सीबीएसई बोर्ड ( CBSE Board) आशा करता है कि मैथमेटिक्स का नया सब्जेक्ट्स स्टूडेंट्स को क्रिटिकल थिंकिंग, प्रॉब्लम सॉल्विंग, लॉजिकल रीजनिंग, मैथमेटिकल थिंकिंग में नए स्किल सिखाएगा. 

बता दें कि जो स्टूडेंट्स 12वीं के बाद मैथमेटिक्स ऑनर्स या फिर इंजीनियरिंग कोर्स करना चाहते हैं वे मैथमेटिक्स (041) पेपर चुन सकते हैं. वहीं, जो स्टूडेंट्स दूसरी फील्ड में करियर बनाना चाहते हैं वे अप्लाइट मैथमेटिक्स  (241) चुन सकते हैं. स्टूडेंट्स अपने इंटरेस्ट के हिसाब से करियर को ध्यान में रखकर मैथमेटिक्स के इन दो पेपरों में से किसी एक को चुनना होगा. 

बता दें कि पिछले साल, CBSE ने कक्षा 10 के छात्रों के लिए मैथ्स में दो स्तरों की परीक्षा की घोषणा की थी. CBSE द्वारा जारी किए गए सर्कुलर के मुताबिक, "इस साल मैथ्स की परीक्षा दो भाग में आयोजित की गई. एक नॉर्मल लेवल (Mathematics-Standard) और दूसरी आसान लेवल (Mathematics-Basic). 10वीं क्लास में बेसिक मैथमेटिक्स पढ़ने वाले स्टूडेंट्स 11वीं क्लास में अप्लाइड मैथमेटिक्स ले सकेंगे." 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com