NDTV Khabar

बिहार के इस विश्वविद्यालय में बची रह गईं आधे से ज्यादा बीएड की सीटें, दोबारा होगी प्रवेश परीक्षा

विश्वविद्यालय में ज्यादातर कॉलेज हैं निजी, अधिक फीस को भी माना जा रहा है सीटों के खाली रहने की एक वजह

142 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार के इस विश्वविद्यालय में बची रह गईं आधे से ज्यादा बीएड की सीटें, दोबारा होगी प्रवेश परीक्षा

प्रतीकात्मक चित्र

खास बातें

  1. दिसंबर तक दोबारा से आयोजित हो सकती परीक्षा
  2. विश्वविद्यालय से कॉलेजों ने मांगी मंजूरी
  3. विश्वविद्यालय के तहत आने वाले ज्यादातर कॉलेज निजी
पटना: आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय(एकेयू) के तहत आने वाले बीएड/एमएड कॉलेजों में करीब आधी सीटें खाली रह गई हैं. इन कॉलेजों में कुल मिलाकर 2250 सीटें हैं. इन सीटों पर नामांकन के लिए प्रवेश परीक्षा ली गई थी. इन पदों के लिए आवेदकों का चयन भी गया था लेकिन किसी कारण से चुने गए ज्यादातर आवेदकों ने दाखिला नहीं लिया. इस वजह से अभी भी बीएड/एमएड की आधी सीटें खाली पड़ी है. अब विश्वविद्यालय प्रसाशन इन खाली सीटों को भरने के लिए जल्द दोबारा से परीक्षा आयोजित करा सकता है. 

यह भी पढ़ें: इग्नू की प्रवेश परीक्षा 24 सितंबर को, जानिए किन बातों का रखें ख्याल

वर्तमान सत्र में ही होगा नामांकन
हिन्दुस्तान के अनुसार अब इन कॉलेजों ने विश्वविद्यालय प्रशासन से इन बची हुई सीटों को भरने के लिए अनुरोध किया है. विश्वविद्यालय कॉलेजों के इस अनुरोध को मान भी गया है. परीक्षा विभाग से जुड़े एक अधिकारी के अनुसार सत्र 2017-19 के लिए 23 दिसंबर को दोबारा से बची हुई बीएड/एमएड सीटों के लिए प्रवेश परीक्षा होगी. इसके लिए आवेदन की अंतिम तिथि 15 दिसंबर निर्धारित की गई है.

यह भी पढ़ें: अब चूके तो जाएगी नौकरी, शिक्षकों के लिए बीएड करने का आखिरी मौका

सिर्फ निजी बीएड कॉलेज ही हैं एकेयू में
आर्यभट्ट ज्ञान विवि में 19 बीएड कोर्स करानेवाले कॉलेज हैं. इनमें से दो एमएड कोर्स भी कराते हैं. विश्वविद्यालय के तहत आने वाले ज्यादातर कॉलेज निजी हैं. जानकारों के अनुसार सीटों के खाली रहने की एक मुख्य वजह इन कॉलेजों की फीस भी है.
VIDEO: एनजीटी स्कूल-कॉलेजों को दिया था यह विशेष निर्देश
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement