Coronavirus की वैक्‍सीन बनाने पर काम कर रहा है IIT, इस कंपनी के साथ किया करार

Coronavirus Vaccine: यह टीका 'रीकॉम्बिनेंट एवियन पैरामिक्सोवायरस' आधारित होगा. रीकॉम्बिनेंट एवियन पैरामिक्सोवायरस संक्रामक बीमारियों को रोकने के लिए टीका के रूप में उपयोग किया जाता है.

Coronavirus की वैक्‍सीन बनाने पर काम कर रहा है IIT, इस कंपनी के साथ किया करार

IIT Guwahati: दवा कंपनी हेस्टर बायोसाइंस ने कोरोनावायरस का टीका विकसित करने के लिए आईआईटी-गुवाहाटी के साथ गठजोड़ किया है.

नई दिल्ली:

अहमदाबाद की दवा कंपनी हेस्टर बायोसाइंस ने कोरोनावायरस का टीका (Coronavirus Vaccine) विकसित करने के लिए आईआईटी-गुवाहाटी (IIT-Guwahati) के साथ गठजोड़ किया है. कंपनी ने बुधवार को एक बयान में बताया कि दोनों संगठनों के बीच इसके लिए 15 अप्रैल 2020 को एक समझौते पर हस्ताक्षर हुए हैं.
 
कंपनी ने कहा कि यह टीका 'रीकॉम्बिनेंट एवियन पैरामिक्सोवायरस' आधारित होगा. रीकॉम्बिनेंट एवियन पैरामिक्सोवायरस संक्रामक बीमारियों को रोकने के लिए टीका के रूप में उपयोग किया जाता है. इसके कई प्रकार के सीरम मुख्य तौर पर मुर्गियों और अन्य जानवरों में फ्लू को फैलने से रोकने के काम आते हैं.

बयान के मुताबिक रीकॉम्बिनेंट एवियन पैरामिक्सोवायरस-1 का उपयोग 'सार्स-कोव-2' के एक इम्यूनॉजिक (शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को जगाने वाले) प्रोटीन के तौर पर किया जाएगा. बाद में इसका उपयोग आगे के अध्ययन के लिए किया जा सकता है.

Newsbeep

इस बारे में हेस्टर बायोसाइंस के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी राजीव गांधी ने कहा, "कंपनी और आईआईटी-गुवाहाटी मिलकर कोरोनावायरस बीमारी से लड़ने के लिए एक रीकॉम्बिनेंट टीका विकसित करेंगे. इसका विनिर्माण एक रक्षोपाय के तौर पर किया जाएगा. हेस्टर टीके के विकसित करने के शुरुआती चरण से लेकर इसके वाणिज्यिक स्तर पर जारी होने तक काम करेगी."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस टीके की क्षमता के बारे में आईआईटी गुवाहाटी के जैवशास्त्र और जैवप्रौद्योगिकी विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर सचिन कुमार ने कहा कि इस पर कोई टिप्पणी करना जल्दबाजी होगी. वह अनुसंधान टीम के प्रमुख होंगे.