NDTV Khabar

परीक्षा के आंकड़ों की तालिका बनाने की प्रक्रिया का डिजिटाइजेशन करेगी दिल्ली सरकार

दिल्ली सरकार के विद्यालयों में करीब 60 हजार शिक्षकों को परीक्षा परिणामों को लेकर तालिका बनाने की प्रक्रिया से राहत मिलेगी और वे अब उत्तर पुस्तिका की जांच पर अपना ध्यान ज्यादा केंद्रित कर सकेंगे क्योंकि इस पूरी प्रक्रिया को डिजिटाइज्ड किया जा रहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
परीक्षा के आंकड़ों की तालिका बनाने की प्रक्रिया का डिजिटाइजेशन करेगी दिल्ली सरकार

अध्यापक करीब 130 घंटे हर वर्ष परीक्षा संबंधी कार्यों में व्यतीत करते हैं.

नई दिल्ली:

दिल्ली सरकार के विद्यालयों में करीब 60 हजार शिक्षकों को परीक्षा परिणामों को लेकर तालिका बनाने की प्रक्रिया से राहत मिलेगी और वे अब उत्तर पुस्तिका की जांच पर अपना ध्यान ज्यादा केंद्रित कर सकेंगे क्योंकि इस पूरी प्रक्रिया को डिजिटाइज्ड किया जा रहा है. शिक्षा निदेशालय के अधिकारियों के मुताबिक दिल्ली सरकार के विषय अध्यापक औसतन करीब 50 घंटे और कक्षा अध्यापक करीब 130 घंटे हर वर्ष परीक्षा संबंधी कार्यों में व्यतीत करते हैं.

यह समय उनके शिक्षण या परिवार का समय होता है. इसमें उत्तर पुस्तिका की जांच, अंकों को चढ़ाना, एक दूसरे अध्यापक द्वारा उनकी जांच, कक्षा अध्यापक द्वारा अंकपत्र में इन अंकों को चढ़ाना और शिक्षक डायरी व मास्टर रिकॉर्ड शीट में इन्हें दर्ज करना व व्यक्तिगत अंक पत्र के साथ ही ऑनलाइन मॉड्यूल में इन आंकड़ों का स्थानांतरण शामिल होता है.

उप मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, “ज्यादा समय इसलिये लगता है क्योंकि यह सारे काम हाथ से होते हैं. लेकिन आगे से ऐसा नहीं होगा.” उन्होंने कहा कि छुट्टी और अनापत्ति प्रमाण पत्र के लिये ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू करने के बाद सरकार परीक्षा के आंकड़ों का भी डिजिटलीकरण करने जा रही है.


अन्य खबरें
दिल्ली के इस स्कूल ने देश के सर्वश्रेष्ठ सरकारी स्कूलों की रैंकिंग में मारी बाजी
CBSE से अलग दिल्‍ली का होगा अपना शिक्षा बोर्ड : मनीष सिसोदिया

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement