NDTV Khabar

Nursery Admission: नए बदलाव के साथ कल से शुरू होने जा रहे हैं नर्सरी दाखिले

नर्सरी एडमिशन के तहत 27 दिसंबर से 17 जनवरी तक आवेदन फॉर्म ले और उसे जमा करा सकते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Nursery Admission: नए बदलाव के साथ कल से शुरू होने जा रहे हैं नर्सरी दाखिले

नर्सरी एडमिशन की फाइल फोटो

खास बातें

  1. स्कूल की वेबसाइट पर उपलब्ध होंगी सभी जानकारी
  2. स्कूल को डीओई को सभी तरह की जानकारी देनी होगी
  3. कई स्कूल ऑनलाइन भी फॉर्म भरने का दे रहे हैं विकल्प
नई दिल्ली: नर्सरी एडमिशन (Nursery Admission) की प्रक्रिया बुधवार से शुरू हो रही है. इस बार नर्सरी दाखिले को लेकर कुछ अहम बदलाव किए गए हैं. मसलन, इस प्रक्रिया के तहत पहली बार नर्सरी में दाखिला लेने जा रहे बच्चों के लिए कोई अपर एज लिमिट नहीं तय की गई है.  डायरेक्टर ऑफ एजुकेशन (डीओई) ने इस बाबत एक नोटिफिकेशन भी जारी किया है. जिसमें कहा गया है कि इस बार से नर्सरी की प्रक्रिया 27 दिसंबर से शुरू होगी. सभी निजी स्कूलों को 26 तारीख तक अपनी क्राइटेरिया और अन्य प्वाइंट्स की जानकारी डीओई की वेबसाइट पर देनी होगी. इसके बाद ही वह एडमिशन फॉर्म बेच सकते हैं.

यह भी पढ़ें: नर्सरी एडमिशन में पहली बार नहीं होगी कोई अपर एज लिमिट

अभिभावक इस प्रक्रिया के तहत 27 दिसंबर से 17 जनवरी तक आवेदन फॉर्म ले और उसे जमा करा सकते हैं. डीओई के अनुसार इस साल नर्सरी, केजी और क्लास वन में दाखिले लेने जा रहे बच्चों की 31 मार्च 2018 तक लोअर एज लिमिट तीन, चार और पांच साल होनी चाहिए. गौरतलब है कि 2015 में दिल्ली सरकार ने नर्सरी दाखिले के तहत बच्चों की अपर एज लिमिट को हटाने की पहल की थी.

यह भी पढ़ें: कोर्ट ने मामला बड़ी बेंच को भेजने की मांग पर सुनवाई से किया इनकार

डीओई ने सभी निजी स्कूलों को दाखिले के लिए अपने स्तर पर क्राइटेरिया तय करने की आजादी दी है. डीओई के अनुसार सभी स्कूल को अपने क्राइटेरिया को विभाग की वेबसाइट पर भी अपलोड करना होगा. इस प्रक्रिया के तहत 15 फरवरी को दाखिले के लिए चुने गए छात्रों की पहली सूची जारी की जाएगी.

ऑनलाइन व ऑफलाइन मिलेंगे फॉर्म
इस बार अभिभावकों को आवेदन फॉर्म लेने के लिए स्कूल के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं होगी. ज्यादातर स्कूल आवेदन फॉर्म ऑफलाइन के साथ-साथ ऑनलाइन भी उपलब्ध करा रहे हैं.

टिप्पणियां
VIDEO: गाइडलाइंस न मानने वाले स्कूलों पर होगी कार्रवाई


अभिभावकों को चाहिए कि वह पहले स्कूल की वेबसाइट पर जांच लें कि क्या वहां फॉर्म उपलब्ध है या नहीं. इसके बाद जरूरत हो तभी स्कूल जाएं. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement